हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

परंपरा: धूमधाम से मनाई गई मंगसीर बग्वाल, रासौ तांदी नृत्य करते हुए निकाली गई सुंदर झांकी..

उत्तरकाशी: बीते दिन शनिवार को जनपद मुख्यालय बाड़ाहाट उत्तरकाशी में मँगसीर बग्वाल धूमधाम से मनाई गई। इस दौरान बग्वाल कार्यक्रम में प्रतिभाग कर रहे सभी स्थानीय लोग अपनी संस्कृति के संवर्धन के लिए पारंपरिक गणवेश में नजर आए। मुख्य अतिथि पूर्व विधायक विजयपाल सजवाण ने भी पारंपरिक गणवेश भिंडी का ऊनी कोट व गढ़वाली टोपी पहनकर कार्यक्रम में चार चांद लगा दिए। इस अवसर पर कंडार देवता मंदिर से रासौ तांदी नृत्य करते हुए सुंदर झांकियां निकाली गई। वहीं देर सांय को रामलीला मैदान में देवदार व चीड़ की लकड़ी से बनाए भैलो को जलाकर लोगों ने मंगशीर की बग्वाल का आनंद लिया। 

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: सबसे युवा CM DHAMI तो सबसे बुजुर्ग थे ND, जानें प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री की उम्र..

अनघा माउण्टेन एसोसिएशन की ओर से रामलीला मैदान में आयोजित दो दिसवीय मंगशीर की बग्वाल को हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। कार्तिक माह की दीपावली के एक माह बाद मनाई जाने वाली मंगशीर की बग्वाल का इतिहास है कि तिब्बती लुटेरों से जीतने के बाद जब माधो सिंह भंडारी घर वापस लौटे तो उनके स्वागत में मंगशीर की बग्वाल का आयोजन किया गया। इसी संस्कृति व पारंपरिक पर्व के संरक्षण तथा संवर्द्धन के लिए अनघा माउटेन एसेासिएशान वर्ष 2007 से मंगशीर की बग्वाल को मनाते आ रहा है। शनिवार को एसोसिएशन की ओर से कंडार देवता मंदिर से स्थानीय महिलाओं ने अपने पारंपरिक गण वेश में रासौ तांदी व छोल्या नृत्य किया।

यह भी पढ़ें: दुःखद खबर: कार पर मारी बस ने टक्कर, एक ही परिवार के 4 लोगों की दर्दनाक मौत..

इसके बाद माधो सिंह भंडारी तथा उनके पीछे उनकी सेना की सुंदर झांकी बाजार में निकाली गई। जिसे देखने के लिए सैकड़ों की संख्या में लोगों की भीड़ नगर की सड़कों पर लगी दिखी। वहीं इसके बाद देर सांय को रामलीला मैदान में भैलो जलाकर लोगों ने मंगशीर की बग्वाल का खूब आनंद लिया। बग्वाल के दौरान व्यवस्थाएं बनाने में पुलिस की अहम भूमिका रही। वहीं जिला मुख्यालय के साथ ही एसेसिएशन की पहल पर जिले के 101 गांवों में भैलू नृत्य के साथ मंगशीर बग्वाल का अयोजन किया गया। जिसमें ग्रामीणों ने बढ़चढ़कर प्रतिभाग किया। अनघा माउंटेन एसोसिएशन की ओर से आयोजित मंगशीर बग्वाल के दूसरे दिन बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए गंगोत्री क्षेत्र के पूर्व विधायक विजयपाल सजवाण ने कहा कि  मंगसीर की बग्वाल गढ़वाली सेना की तिब्बत पर विजय का प्रतीक है। उन्होंने कार्यक्रम में मौजूद सभी स्थानीय लोगों को मंगशीर बग्वाल की बधाई दी।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: दो जनपदों में भूकंप के झटकों से डोली धरती, देर रात भूकंप के झटकों से सहमे लोग..

वहीं पूर्व विधायक विजयपाल सजवाण मैदान में लगाये गए गढ़ भोज, गढ़ संग्राहलय, स्वेत श्याम फोटो प्रदर्शनी का अवलोकन कर आयोजक मंडल की सराहना की। वहीं भेलू घुमाकर मंगशीर बग्वाल का लुफ्त उठाया। इस मौके पर नगर पालिका अध्यक्ष रमेश सेमवाल, कांग्रेस जिलाध्यक्ष जगमोहन रावत, शहर कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गौड़, अनघा माउंटेन एसोसिएशन के अध्यक्ष हिमांशु शेखर जोशी, संयोजक अजय पुरी,मेजर आरएस जमलाल, कृष्णा विजल्वाण, मालगजार शैलेन्द्र नौटियाल, सचिव राघवेन्द्र उनियाल, सुरेन्द्र उनियाल,मोहन डबराल, उमेश प्रसाद बहुगुणा, प्रज्ञा जोशी, प्रभात रुडोला, रजनी चौहान, सावित्री उनियाल, मीना नौटियाल, सविता भट्ट, गिरवीर परमार, महाजन, प्रताप बिष्ट व व्यापार मंडल के अध्यक्ष रमेश चौहान आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें: खूबसूरती और संस्कृति का अद्भुत संगम है उत्तराखंड, पर्यटकों का मन मोह लेती हैं ये 10 जगह..

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X