हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

कैसे क‍िया जाता है क‍िडनी की पथरी का इलाज? जानें इलाज की पूरी प्रक्रिया..

Hillvani-kidney-stone-treated

Hillvani-kidney-stone-treated

अगर क‍िडनी में छोटे स्‍टोन है तो वो यूर‍िन के जर‍िए न‍िकल जाते हैं पर अगर स्‍टोन की संख्‍या और साइज बड़ा है तो आपके पेट और न‍िचले ह‍िस्‍से में दर्द हो सकता है। जब पत्‍थर बड़े हो जाते हैं तो वो चारों ओर घूमने लगते हैं ज‍िससे तेज दर्द होता है, इस स्‍थ‍ित‍ि से पहले ही आप जांच के जर‍िए स्‍टोन का पता लगा लें तो समय पर इलाज संभव होगा। क‍िडनी स्टोन का इलाज करवाने के ल‍िए आपको घरेलू नुस्‍खे आजमाने के बजाय डॉक्‍टर के पास जाकर सही इलाज करवाना चाह‍िए।

यह भी पढ़ेंः क्या आज जानतें हैं बीयर पीने के ये गज़ब फायदे, जानें कितनी और कब पीएं..

किडनी स्टोन के लक्षण
क‍िडनी में स्‍टोन होने पर आपको कई तरह के लक्षण नजर आ सकते हैं, इन लक्षणों के नजर आने पर आप तुरंत डॉक्‍टर से संपर्क करें और जांच करवाएं- 
1- चक्‍कर आना
2- उल्‍टी आना 
3- यूर‍िन में ब्‍लड आना 
4- पीठ में तेज दर्द 
5- पेट के आसपास दर्द होना  

यह भी पढ़ेंः फैटी लिवर की समस्या को न करें अनदेखा, हो सकता है खतरनाक। जानें लक्षण और कारण..

क‍िडनी स्‍टोन न‍िकालने की प्रक्र‍िया
1- लक्षण नजर आने पर डॉक्‍टर एक्स-रे या सोनोग्राफी के ल‍िए कहा जाता है।
2- कई मामलों में डॉक्‍टर सीटी स्‍कैन करवाने की सलाह भी दे सकते हैं। 
3- इसके अलावा ब्‍लड और यूर‍िन का सैंपल भी ल‍िया जा सकता है। 
4- अगर र‍िपोर्ट में स्‍टोन हैं पर साइज छोटा है तो डॉक्टर दवा व पानी का इंटेक बढ़ाने की सलाह देते हैं। 
5- अगर पत्‍थरी का साइज बड़ा है तो आपको क्‍लीन‍िकल ट्रीटमेंट करवाना पड़ सकता है। क्‍लीन‍िकल ट्रीटमेंट के बारे में हम आगे व‍िस्‍तार से जानेंगे।    

यह भी पढ़ेंः सर्वाइकल पेन से पाना चाहते हैं छुटकारा। अपनाएं ये आयुर्वेदिक उपाय, दर्द से मिलेगा आराम..

क‍िडनी स्‍टोन का क्‍लीन‍िकल इलाज
क‍िडनी में स्‍टोन न‍िकलने पर कई तरह से इलाज क‍िया जाता है ज‍िसमें ओपन सर्जरी भी शाम‍िल है पर उसे आख‍िरी व‍िकल्‍प माना जाता है, सर्जरी की नौबत न आए इसके ल‍िए डॉक्‍टर पर्कुट्यूशन नेफोलिथोटॉमी, शॉक वेव लिथोट्रिप्स, यूरेएसोस्कोपी आद‍ि तकनीकों का इस्‍तेमाल करते हैं। 

यह भी पढ़ेंः दिल की नसें कमजोर होने पर होती हैं यह समस्याएं। दिखते हैं ये लक्षण, जानें कारण..

यूरेटेरोस्कोपी (Ureteroscopy)
1- क‍िडनी में स्‍टोन न‍िकलने पर डॉक्‍टर यूरेटेरोस्कोपी से पथरी का इलाज कर सकते हैं। 
2- इस तकनीक में यूरेट्रोस्कोप नाम के ऑप्‍ट‍िक ड‍िवाइस का यूज क‍िया जाता है ज‍िससे पत्‍थर को देखा जा सके। 
3- इस प्रक्र‍िया में ब‍िना चीरा लगाए स्‍टोन को शरीर से बाहर न‍िकाला जाता है।  
4- इस प्रक्र‍िया को अपनाने के बाद व्‍यक्‍त‍ि को 2 से 3 द‍िन आराम करना होता है। 
5- इस प्रक्र‍िया के चलते सूजन को रोकने के ल‍िए यूरिनरी ब्लैडर में स्‍टेंट डाला जा सकता है। 
6- अगर स्‍टेंट डाला गया है तो वो 1 से 3 हफ्ते बाद हटाया जाता है।   

यह भी पढ़ेंः गर्मियों के लिए रामबाण है पुदीना, बनाएं ये 5 खास ड्रिंक्स। कई समस्याओं से भी मिलेगा छुटकारा..

शॉक वेव लिथोट्रिप्स
1- क‍िडनी में स्‍टोन का इलाज करने के ल‍िए डॉक्‍टर शॉक वेव लिथोट्रिप्स का इस्‍तेमाल करते हैं।
2- इस प्रक्र‍िया में शरीर के बाहर शॉक वेव को बनाने के ल‍िए लिथोप्रिटर नाम की मशीन यूज करते हैं। 
3- ये मशीन शरीर के माध्‍यम से गुजरती है और क‍िडनी के स्‍टोन को छोटे टुकड़ों में तोड़ने का काम करती है जो बाद में यूर‍िन ट्रेक्‍ट से न‍िकल सकते हैं।  
4- इस थेरेपी में मरीज को तुरंत घर ले जाया जा सकता है और वो सामान्‍य द‍िनचर्या में रह सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः किस विटामिन की कमी से कौन सा रोग होता है? कौन से अंग होते हैं कमजोर। देखें पूरी लिस्ट..

पेर्कुट्यूशन नेफोलिथोटमी
1- पेर्कुट्यूशन नेफोलिथोटमी, क‍िडनी स्‍टोन को न‍िकालने की एक प्रक्र‍िया है ज‍िसका इस्‍तेमाल क‍िडनी में बड़े स्‍टोन को न‍िकालने के ल‍िए क‍िया जाता है।  
2- क‍िडनी में पथरी का इलाज करने के ल‍िए पेर्कुट्यूशन नेफोलिथोटमी नाम की प्रक्र‍िया का इस्‍तेमाल क‍िया जाता है।
3- इस प्रक्र‍िया में स्‍टोन को नेफ्रोस्‍कोप की मदद से देखा जाता है ताक‍ि साइज पता लगाया जा सके।
4- उसके बाद लेजर बीम की मदद से पत्‍थर को छोटे टुकड़ों में तोड़ा जाता है।
5- उसके बाद वैक्‍यूम की मदद से टूटे पत्‍थरों को शरीर के बार न‍िकाल ल‍िया जाता है।  
6- इस प्रक्र‍िया के बाद मरीज को 24 घंटे या उससे ज्‍यादा समय के ल‍िए न‍िगरानी में रखा जाता है। 
7- सामान्‍य द‍िनचर्चा में लौटने में व्‍यक्‍त‍ि को 7 से 15 द‍िन का समय लग सकता है।    

यह भी पढ़ेंः पहचानें साइलेंट हार्ट अटैक की दस्तक, ये लक्षण हो सकते हैं बेहद गंभीर..

नोट- अगर आपको भी क‍िडनी में स्‍टोन के लक्षण नजर आ रहे हैं तो आपको यूरोलॉज‍िस्‍ट से संपर्क करना चाह‍िए और जांच के जर‍िए स्‍टोन की पुष्‍ट‍ि करवानी चाह‍िए।

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X