हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

Be Alert: ठंड में बढ़ जाता है ब्रेन स्ट्रोक का खतरा। ऐसे पहचानें लक्षण, ऐसे रखें सावधानी..

0
Health-Tips-Brain-Stroke-Hillvani-News

Health-Tips-Brain-Stroke-Hillvani-News

Risk of brain stroke increases in cold: ठंड में मौसम में सेहत के प्रति ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत होती है। जरी सी लापरवाही ब्रेन स्ट्रोक जैसी गंभीर बीमारियों को बढ़ाती है। ब्रेन स्ट्रोक आपके शरीर को कई तरह से प्रभावित कर सकता है। इसे एक तरह से आप लकवा भी कह सकते हैं। यह समस्या 50 साल से अधिक उम्र वाले लोगों में देखने को मिलती है। लेकिन बीते कुछ सालों में 30 से 35 साल से कम उम्र वाले लोगों में भी यह दिक्कत देखने को मिल रही है। सर्दियों में ब्रेन स्ट्रोक का खतरा काफी अधिक बढ़ जाता है। जानकारों का कहना है कि सर्दियों में ब्रेन स्ट्रोक के मामले बढ़ जाते हैं। जिसका मुख्य कारण ठंड के दौरान रक्त की धमनियों का सिकुड़ना है। जिसके चलते ब्लड प्रेशर बढ़ता है। ब्लड में अवरुद्धत्ता पैदा होती है। इसके अलावा, ठंड के दौरान प्यास कम लगती है, लोग पानी कम पीते हैं। जिससे खून की तरलता कम हो जाती है। खून गाढ़ा हो जाता है। ठंड के मौसम में धमनियों के सिकुड़ने और खून के गाढ़ा होने से नसों में क्लाट बनने या फिर नस फटने के मामले देखे जाते हैं।

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंड में शीतलहर का प्रकोप.. अभी ठंड और कोहरा बरकरार, दिसंबर-जनवरी का महीना निकला सूखा..

ये सावधानियां बरतें। Risk of brain stroke increases in cold
अपने आप को ठंड से बचाएं, सुबह से शाम तक कम से कम दो लीटर पानी पिएं, ठंड के दौरान सुबह की सैर की जगह दोपहर को तापमान बढ़ने पर सैर करें, नहाते वक्त सीधा सिर पर पानी न डालें, पहले पैरों व हाथों पर और फिर पूरे शरीर पर पानी डालें।
इसका रखें ख्याल। Risk of brain stroke increases in cold
नियमित जांच कराएं: उच्च रक्चाप, मधुमेह और उच्च कोलेस्ट्राल स्तर जैसी स्वास्थ्य स्थितियों में समय-समय पर नियमित जांच कराएं।
धूमपान छोड़ना : धूमपान रक्तचाप बढ़ाता है और रक्त में आक्सीजन का स्तर कम करता है। रक्त के थक्कों के निर्माण को बढ़ावा देता है।
शराब का उपयोग सीमित करना : ज्यादा शराब के सेवन से आपका रक्तचाप बढ़ सकता है, जिससे स्ट्रोक का खतरा बढ़ सकता है।
मध्यम वजन बनाए रखना : अधिक वजन और मोटापा आपको अन्य स्वास्थ्य स्थितियों के जोखिम में डालता है और स्ट्रोक के खतरे को बढ़ाता है।

यह भी पढ़ेंः जोशीमठ के आपदा प्रभावितों को मिलेगा घर? क्षतिग्रस्त मकानों में रहने वापस क्यों लौट रहे लोग?

स्ट्रोक के चेतावनी संकेतों को कैसे पहचानें। Risk of brain stroke increases in cold
चेहरे का विचलन : जैसे ही रोगी मुस्कुराता है, उसके चेहरे के एक या दोनों तरफ झुकने के लक्षण मांसपेशी पक्षाघात या कमजोरी का संकेत है।
बांहों की कमजोरी : स्ट्रोक के रोगियों में एक पक्ष पर मांसपेशियों की कमजोरी सामान्य है। उनसे कहें कि वे अपने हाथ ऊपर करें। अगर उनकी एक-तरफ कमजोरी है (और इसे पहले नहीं थी) तो एक बांह ऊपर रहेगी, जबकि दूसरी नीचे गिर जाएगी।
बोलने में परेशानी : अक्सर लोग बोलने की क्षमता खो देते हैं, जिससे उन्हें अपने शब्द गलत बोलने लगते हैं या सही शब्द चुनने में कठिनाई होती है।
प्रतिक्रिया का समय : तुरंत मदद प्राप्त करें क्योंकि सही समय पर उपचार प्राप्त करना बहुत आवश्यक है।

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंड में UCC लागू करने की तैयारी.. मिलेंगे ये अधिकार तो इन पर लगेगी रोक, पढ़ें ड्राफ्ट के मुख्य बिंदु..

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X