हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

दिल की नसें कमजोर होने पर होती हैं यह समस्याएं। दिखते हैं ये लक्षण, जानें कारण..

हमारे शरीर का सबसे महत्वपूर्ण अंग हार्ट होता है, लेकिन आजकल की लाइफस्टाइल की वजह से ज्यादातर लोगों को हार्ट संबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। गलत खान-पान और गलत आदतों की वजह से आजकल कम उम्र में ही लोगों के दिल की नसें कमजोर होती जा रही है। जिस वजह से हार्ट अटैक, हार्ट फेलियर जैसी बीमारियों का खतरा बढ़ता जा रहा है। लेकिन दिल से जुड़ी बीमारियों के शुरूआती लक्षण आपको शरीर में पहले से दिखना शुरू हो जाते हैं। जिसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए, समय रहते उसका इलाज करा लेना चाहिए। आइए जानते हैं दिल की नस कमजोर होने पर शरीर में कौन-कौन से लक्षण दिखते हैं।

यह भी पढ़ें: जलमग्न होकर लोहारी गांव प्रदेश को करेगा रोशन, झील में डूबी ग्रामीणों की सुनहरी यादें। देखें तस्वीरें..

दिल की नस कमजोर होने के लक्षण
1- सीने में जलन होना।
2- सांस लेने में परेशानी होना।
3- कंधे और छाती में दर्द होना।
4- पैरों में अक्सर दर्द बने रहना।
5- पैर में अक्सर सूजन रहना।
6- थकावट महसूस होना।
7- लगातार सर्दी और जुकाम बने रहना।
8- ब्लड प्रेशर हाई रहना।
9- अक्सर बेचैनी होना।
10- छाती में दबाव महसूस करना।

यह भी पढ़ें: गर्मियों में रामबाण हैं पुदीना की पत्तियां, पेट के साथ-साथ इन समस्याओं से भी मिलेगा छुटकारा

दिल की नस कमजोर होने के कारण
1- आजकल ज्यादातर लोग बढ़ते मोटापा की वजह से परेशान है और बढ़ता मोटापा कई बीमारियों की जड़ होता है। उसी में से एक बीमारी हार्ट की भी होती है। इसलिए मोटापा भी दिल की नस कमजोर होने का एक कारण हो सकता है।
2- आजकल की लाइफस्टाइल और गलत खान-पान की वजह से ज्यादातर लोग शरीर में बढ़ते खराब कोलेस्ट्रॉल की वजह से परेशान है। लेकिन क्या आप जानते हैं शरीर में बढ़ता कोलेस्ट्रॉल भी दिल की नस को कमजोर कर सकता है। क्योंकि कोलेस्ट्रॉल बढ़ने की वजह से दिल की नसों में प्लाक जमा हो जाता है।
3- हाई ब्लड प्रेशर की बीमारी काफी खतरनाक होती है। क्योंकि हाई ब्लड प्रेशर की वजह से हार्ट अटैक की संभावना काफी हद तक बढ़ जाती है, इसलिए यह भी दिल की नस कमजोर होने का एक कारण होता है।

यह भी पढ़ें: किस विटामिन की कमी से कौन सा रोग होता है? कौन से अंग होते हैं कमजोर। देखें पूरी लिस्ट..

4- हृदय की मांसपेशियों में आयरन जमा हो जाने की वजह से भी दिल की नस कमजोर हो जाती है।
5- शरीर में जरूरी विटामिन्स और मिनरल्स की कमी के कारण भी दिल की नस कमजोर होने लगती है।
6- डिप्रेशन की वजह से भी दिल की नसे कमजोरी होती है। साथ ही नींद न आने की समस्या, जिसे अनिद्रा की बीमारी कहते हैं, उसकी वजह से भी दिल की नस कमजोर हो सकती है।
7- पहले हुई हार्ट सर्जरी या हार्ट वाल्व से जुड़ी समस्या होने की वजह से भी दिल की नस कमजोर हो सकती है।

यह भी पढ़ें: देवताओं का ताल: यहां है प्रकृति का अद्भुत और खूबसूरत संगम, ताल से जुड़ी हैं कई रोचक कथाएं..

दिल की नसें कमजोर होने से होने वाली समस्याएं
दिल की नसों के कमजोर होने की वजह से आपको दिल से जुड़ी गंभीर बीमारियों का खतरा बना रहता है। इसकी वजह से आपको हार्ट अटैक आ सकता है और आगे चलकर कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं। दिल की नसें कमजोर होने से कोरोनरी आर्टरी डिजीज का खतरा बढ़ जाता है। दिल की नसें कमजोर होने पर दिखने वाले लक्षणों को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए और समय-समय पर दिल की सेहत की जांच जरूर करानी चाहिए।

यह भी पढ़ें: पहचानें साइलेंट हार्ट अटैक की दस्तक, ये लक्षण हो सकते हैं बेहद गंभीर..

Disclaimer: HillVani लेख में जानकारी व सूचना को लेकर किसी तरह का दावा नहीं करता है। इस आर्टिकल में बताई गई विधि, तरीक़ों व दावों की भी पुष्टि नहीं करता है। इनको केवल सुझाव के रूप में लें। इस तरह के किसी भी उपचार / दवा / डाइट पर अमल करने से पहले चिकित्सक की सलाह अवश्य लें।

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X