हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

Health Tips: ये हैं Vitamin D की कमी के संकेत, न करें नजरअंदाज। इन 5 चीजों का करें सेवन..

विटामिन डी शरीर को स्वस्थ रखने में अहम भूमिका निभाता है। आप अगर लंबे समय तक बीमारियों से दूरी बनाए रखना चाहते हैं तो दूसरे अन्य जरूरी विटमिन्स और पोषक तत्वों की तरह ही आपको विटमिन डी को भी अपने आहार में शामिल करना बहुत आवश्यक है। सूरज की रोशनी विटामिन डी का सबसे बड़ा प्राकृतिक स्रोत है। इसलिए विटमिन डी को सनशाइन विटमिन भी कहते हैं। हड्डियों, मासंपेशियों और दांत को स्वस्थ और मजबूत बनाने के लिए विटमिन डी की जरूरत होती है। शरीर में कैल्शियम को हड्डियों तक पहुंचाने का काम भी विटामिन डी ही करता है।

वर्तमान समय जिस तरह से लोग भागदौड़ भरी जिंदगी जी रहे हैं। जिसके कारण शरीर में विटामिन डी की कमी ज्यादा होने लगी है। आजकल लोग धूप में निकलने से बचते हैं, ऐसी स्थिति में शरीर को प्राकृतिक रुप से विटामिन डी नहीं मिल पाता है। आंकड़ों के हिसाब की मानें तो वर्तमान में 70 से 90 प्रतिशत बलोग विटमिन डी की कमी से जूझ रहे हैं। बहुत सारे लोगों को विटामिन डी की कमी के लक्षण भी पता नहीं होते है। आज हम आपको विटामिन डी की कमी से दिखने वाले 5 प्रमुख लक्षणों के बारे में बता रहे हैं। अगर आप धूप नहीं ले पा रहे तो ऐसे कौन से 5 खाद्य पदार्थ हैं जिनमें विटामिन डी भरपूर मात्रा में पाया जाता है..

विटामिन डी की कमी से दिखने वाले लक्षण..
दिनभर थकान महसूस होना: विटमिन डी की कमी होने पर आपको हर वक्त बहुत थकान महसूस होती है। यह विटामिन डी की कमी का ये सबसे बड़ा संकेत है। अगर आपकी डाइट सही है और नींद पूरी हो रही है, इसके बाद भी कमजोरी और थकान रहती है तो ये विटमिन डी की कमी की वजह से है। आप ब्लड टेस्ट करवाने के बाद ये जान सकते हैं कि शरीर में विटमिन की कमी है या नहीं।

डिप्रेशन और मूड खराब: अगर आपका मूड खराब रहता है या हर वक्त डिप्रेशन फील होता है तो ये विटामिन डी की कमी के संकेत हो सकते हैं। अगर आप मूड बात-बात पर खराब होता है तो खून में विटमिन डी की कमी हो सकती है। कई बार घर में सनलाइट नहीं आने पर भी डिप्रेशन रहता है। मूड को फ्रश और हैपी बनाने के लिए नियमित रुप से थोड़ी देर धूप में बिताएं, सुबह की गुनगुनी धूप में खुलकर सांस लें।

बालों का झड़ना: बाल झड़ना भी विटामिन डी की कमी के कारण होता है। हमें लगता है कि हेयर फॉल या हेयर लॉस केमिकल वाले प्रॉडक्ट्स के इस्तेमाल की वजह से हो रहा है, लेकिन ये विटामिन डी की कमी की वजह से भी हो सकता है। विटामिन डी की कमी होने पर बहुत ज्यादा बाल गिरने लगते हैं। विटामिन डी वो न्यूट्रिएंट है जो हेयर फॉलिकल्स को बढ़ाता है।

हड्डियों और पीठ में दर्द: अगर शरीर में विटामिन डी की कमी हो रही है तो इससे कैल्शियम शरीर में अवशोषित नहीं होगा। हम सभी जानते हैं कि हड्डियों, मांसपेशियों और दांत को मजबूत बनाने के लिए कैल्शियम की जरूरत होती है। लेकिन शरीर में कैल्शियम को अच्छी तरह से अवशोषित करने के लिए विटमिन डी की जरूरत होती है। ऐसी स्थिति में आप कितना भी कैल्शियम का सेवन कर लें आपकी हड्डियों और पीठ में दर्द रहेगा। हड्डियों में दर्द विटमिन डी की कमी का संकेत है।

चोट और घाव जल्दी ठीक नहीं होना: शरीर में विटामिन डी की कमी होने पर अगर आपको कहीं भी चोट लग जाए तो वह जल्दी ठीक नहीं होती है। अगर घाव देरी से भर रहा है या चोट ठीक नहीं हो रही है तो ये भी शरीर में विटमिन डी की कमी का संकेत हो सकता है। विटामिन डी शरीर में सूजन, जलन और इंफेक्शन को रोकने में मदद करता है। 

डाइट में शामिल करें ये चीजें..
1- ​गाय का दूध: गाय के दूध में भी विटामिन डी पाया जाता है। इससे शरीर को ज्यादा मात्रा में विटमिन डी मिलता है। हालांकि आपको गाय का लो फैट मिल्क की जगह फुल क्रीम दूध पीना चाहिए। दूध से शरीर को कैल्शियम और विटमिन डी दोनों एक साथ मिलते हैं।

2- ​अंडा: जो लोग नॉन वेज नहीं खाते हैं उनके लिए अंडा भी विटामिन डी का अच्छा स्रोत है। अंडे में भरपूर पोषक तत्व पाए जाते हैं। अंडे के सफेद वाले हिस्से में प्रोटीन होता है और पीले वाले हिस्से यानि योक में फैट, विटमिन्स और मिनरल्स पाए जाते हैं। एक अंडा खाने से आपको 5 प्रतिशत विटमिन डी मिलता है।

​3- दही खाएं: कुछ लोग दूध नहीं पीते ऐसी स्थिति में आप दही का सेवन कर विटमिन डी की कमी को पूरा कर सकते हैं। दही में से भरपूर विटामिन डी पाया जाता है। रोज दही खाना अगर पसंद नहीं है तो आप लस्सी या छाछ भी पी सकते हैं। दही खाने से पेट और आंत दोनों स्वस्थ रहती हैं।

4- संतरे का जूस: संतरे के जूस में विटमिन सी काफी मात्रा में होता है। इसके अलावा संतरे के जूस को विटमिन डी का अच्छा सोर्स माना जाता है। संतरे का जूस पीने के कई फायदे मिलते हैं। नियमित रूप से संतरे का जूस पीने से शरीर में विटामिन डी की कमी को दूर किया जा सकता है। कोशिश करें कि पैक्ड जूस की जगह घर पर बना फ्रेश संतरे का जूस पिएं।

5- साल्मन फिश- साल्मन फिश विटमिन डी का बेहतरीन सोर्स है। इसमें ओमेगा 3 फैटी ऐसिड से भरपूर मात्रा में पाया जाता है। करीब 100 ग्राम साल्मन फिश में 66 प्रतिशत विटमिन डी पाया जाता है। अगर आप नॉन वेजिटेरियन हैं तो साल्मन मछली खाकर विटमिन डी की कमी को दूर कर सकते हैं।

Disclaimer: HillVani लेख में जानकारी व सूचना को लेकर किसी तरह का दावा नहीं करता है। इस आर्टिकल में बताई गई विधि, तरीक़ों व दावों की भी पुष्टि नहीं करता है। इनको केवल सुझाव के रूप में लें। इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले चिकित्सक की सलाह अवश्य लें।

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X