हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

जोगेन्द्र सिंह पुंडीर फाउंडेशन ने 13 हस्तियों को किया उत्तराखंड शक्ति सम्मान से सम्मानित..

Hillvani-Award-Uttarakhand

Hillvani-Award-Uttarakhand

देहरादून: मंगलवार को जोगिंद्र पुंडीर फाउंडेशन एवं महाराजा अग्रसेन चरिटेबल हॉस्पिटल व ट्रस्ट के सौजन्य से कृषि, मत्स्य पालन एवं गौ पालन के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले व्यक्तियों को उत्तराखण्ड शक्ति सम्मान से सम्मानित किया गया। जोगेंद्र पुंडीर फाउंडेशन द्वारा उत्तराखंड शक्ति सम्मान अवार्ड दिया गया। जोगेंद्र पुंडीर फाउंडेशन गत वर्षों से कोविड-19 के दौरान वे उसके अलावा भी समाज सेवा का कार्य कर रही है और आज समाज में आने वाले युवकों को स्वरोजगार से जोड़ने के लिए मछली पालन, पशु पालन, गौ पालन अन्य पशुपालन के उद्योग में सफल हो सके। इसलिए सम्मान समारोह का आयोजन जोगिंदर सिंह पुंडीर के द्वारा किया गया। इस मौके पर केंद्रीय मत्स्यपालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री पुरुषोत्तम रूपला ने एक दिवसीय शिविर व मेले का शुभारंभ किया। वही केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री पुरुषोत्तम रुपाला को पुष्प गुच्छ शॉल उड़ाकर सम्मानित किया गया।

यह भी पढ़ेंः आज होगी राज्य कैबिनेट की महत्वपूर्ण बैठक, इन मुद्दों पर हो सकता है फैसला..

वही इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री पुरुषोत्तम रूपला ने कहा कि उत्तराखण्ड शक्ति सम्मान के जरिए राज्य के पशुपालकों को सम्मानित करने का जो कार्य किया है वह बहुत ही सराहनीय है, इस कार्य को करने के लिए मैं भाई जोगिंद्र पुंडीर को तहदिल से धन्यवाद करता हूं। आज पशु प्रजनन फार्म, कालसी देहरादून में गोवंशीय सहायतित प्रजनन तकनीकी प्रयोगशाला का शुभांरभ किया है वह बहुत ही अच्छी पहल है। इस मौके पर भाजपा किसान मौर्चा के उपाध्यक्ष जोगेंद्र सिंह पुंडीर ने कहा कि भारत की आत्मा, इस विश्व की आत्मा गांव के खेतों में औऱ किसानों में बसती है। जब गांव के खेतों में हरियाली रहेंगी और हमारे भारत का किसान जब खुशहाल रहेगा। तब ये भारत मां परम वैभव की ओर जाएगी। तब हमारा भारत विश्व गुरु के पायदान की ओर जाएगा। तब पूरे विश्व में शांति रहेंगी। वही किसानों को देखते हुए नरेंद्र मोदी ने एक अलग से विभाग बनाया ताकि हमारे देश के किसान खुशहाल रह सकें और उनकी आय में वृद्धि हो।

यह भी पढ़ेंः ॐ छात्र संगठन ने दिया पूर्व विधायक विजयपाल सजवाण को अपना समर्थन..

इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या ने कहा कि हमारी सरकार तो मत्सय पालकों को सम्मान हमेशा से करती आयी है। लेकिन मैने ऐसा पहली बार देखा है कि किसी संस्था के द्वारा पशुपालक, मत्सय पालकों को सम्मानित किया गया। ये बड़े गर्व की बात है औऱ कहा कि उत्तराखंड सरकार देश की पहली ऐसी सरकार है जिसने गाय को ‘गौमाता’ का दर्जा दिए जाने का प्रस्ताव विधानसभा से पारित कर केंद्र में भेजने का काम किया है। ये हमारी श्रद्धा गौ माता के प्रति है। वहीं राज्य के पशुपालकों को आर्थिक मजबूती मिले औऱ नर पशु पर भी अंकुश लग सकेगे। इसीलिए उत्तराखंड की भाजपा सरकार ने देश के प्रथम सेक्स सार्टेड सीमन प्रयोगशाला को खोला गया है। जहां 95 प्रतिशत नर पशु होने संभावना है। वहीं इस मौके पर प्रमुख पर्यावरणविद पुत्र कहे जाने वाले अनिल प्रकाश जोशी भी उपस्थित रहे। अनिल प्रकाश जोशी ने हिमालय के मार्मिक प्रश्नों पर माननीय केंद्रीय मंत्री जी को संबोधन करते हुए कहा कि आप हिमालय के बारे में चिंता कर रहे हैं वह हमारे लिए यहां आए हैं उसके लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

यह भी पढ़ेंः केजरीवाल के पास उत्तराखंड के विकास का कोई विजन व रोडमैप नहीं…

इस मौके परबृजेश कुमार जोशी जो जौनसार बाबर में 2011 से गौ संवर्धन संस्था के लिए कार्य कर रहे हैं। इन्होंने अब तक 60 से अधिक गायों का संरक्षण किया है और जैविक खेती, गोबर, गोमूत्र, जीवामृत आदि का उत्पादन किया है। इस उत्कृष्ट कार्य के लिए बृजेश कुमार सम्मानित उत्तराखण्ड शक्ति सम्मान से सम्मानित किया। श्री गोपाल जी को जैविक खाद, केंचुआ खाद बनाने के क्षेत्र में उत्कृष्ट काम करने के लिए उत्तराखण्ड शक्ति सम्मान से सम्मानित किया गया है। सुरेंद्र सिंह तोमर 2008 से मछली पालन का कार्य कर रहे हैं, जिसमें उन्होंने रोहू, कॉमनकार्य, ग्रास कार्प तथा अन्य जातियों की मछलियों का पालन किया है। इस उत्कष्ट कार्य करने के लिए उत्तराखण्ड शक्ति सम्मान से सम्मानित किया गया है. महाबल सिंह मछली पालन के साथ-साथ बागवानी के क्षेत्र में उत्कृष्ट काम करने के लिए सम्मानित किया गया।

यह भी पढ़ेंः भारतीय कॉमिक्स की प्यारी सी बगिया का कैसे हुआ पतन? दुखदायी तो है पर चिंताजनक भी!

सुषमा बहुगुणा स्वारोजगार के क्षेत्र में कार्य कर रही हैं, इन्होंने 10 सालों से गाय के गोबर से धूपबत्ति व फूलों एवं अन्य़ घरेलू संसाधनों से सजावटी समान बनाकर व उसे बेचने का कार्य कर रहे हैं। इस उत्कृष्ट कार्य के लिए उन्हें सम्मानित किया गया है। अलीशा मैंडोलिया को टेक्सटाइल डिजाइन, मुल्या क्रिएशन की सह-संस्थापक को सम्मानित किया गया। मीनाक्षी खाती उत्तराखंड की सांस्कृतिक विरासत ऐपण कला को पहचान दिलाने की पहल मीनाक्षी खाती जी द्वारा की गयी। कुमाऊँ की इस गौरवशाली लोककला को पुनर्जीवित कर नई पहचान दिलाने वाली ‘मीनाक्षी खाती’ सम्पूर्ण राज्य और राष्ट्र में ‘ऐपण गर्ल’ के नाम से मशहूर हैं। जिनको उत्तराखण्ड शक्ति सम्मान से सम्मानित किया गया। इस अवसर पर राज्यसभा सांसद नरेश बंसल, कैबिनेट मिनिस्टर रेखा आर्य, पद्मभूषण अनिल प्रकाश जोशी, एवं माननीय विधायक विनोद चमोली जी, वैश्य महासभा के अध्यक्ष सोहन लाल गुप्ता, बबलू बंसल मंडल अध्यक्ष एवं अन्य पार्षदगण, मंडल अध्यक्ष एवं गणमान्य महानुभाव उपस्थित रहे।

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X