हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

ऋषिकेश : AIIMS के डॉक्टरों ने रोबोट तकनीक से किया पित्त की थैली में कैंसर का ऑपरेशन..

0
AIIMS Rishikesh Drone Service

Gallbladder cancer surgery done using robotic technology : एम्स ऋषिकेश के सर्जिकल गैस्ट्रोएंटरोलॉजी विभाग के चिकित्सकों ने रोबोट तकनीक से एक ऐसे मरीज की सफल सर्जरी की जिसकी पित्त की थैली में कैंसर बन चुका था और चीरे के माध्यम से सर्जरी (AIIMS Rishikesh) करना बहुत ही जोखिम भरा था। मरीज अब स्वस्थ है और उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।

ये भी पढिए : उत्तराखंडः भारत-चीन सीमा पर वीरगति को प्राप्त हुए राइफलमैन शैलेंद्र। घर का था इकलौता चिराग, परिवार में मातम..

लीवर तक फैल चुका था कैंसर | Gallbladder cancer surgery done using robotic technology

बता दे ऋषिकेश के मुनिकीरेती क्षेत्र निवासी 36 वर्षीय रामेश्वर प्रसाद देवली लंबे समय से पेट दर्द से परेशान थे। अपनी बीमारी को उन्होंने कई निजी अस्पतालों में दिखाया लेकिन उन्हें कोई आराम नहीं मिला।
एम्स ऋषिकेश के सर्जिकल गैस्ट्रोएंटरोलाजी ओपीडी में दिखाने पर उन्हें पता चला कि उनकी पित्त की थैली में कैंसर बन गया है और लीवर तक फैल चुका है। कैंसर का आकार बड़ा होने के कारण उन्हें पहले मेडिकल आन्कोलाजी विभाग में कीमोथेरेपी के लिए भेजा गया। कीमो के बाद दूसरी जांच में तय किया गया कि बीमारी के निदान के लिए सर्जरी ही एकमात्र विकल्प है।

पित्त की थैली के कैंसर का ऑपरेशन खुले चीरे से करना जटिल होता | Gallbladder cancer surgery done using robotic technology

सर्जिकल गैस्ट्रोएंटरोलॉजी विभाग के विभागाध्यक्ष डा. निर्झर राकेश ने बताया कि पित्त की थैली के कैंसर का ऑपरेशन खुले चीरे से करना बहुत ही जटिल होता है। इसलिए यह जटिल ऑपरेशन रोबोट तकनीक से किया गया। उन्होंने बताया कि लगभग पांच घंटे तक चली यह जटिल सर्जरी पिछले महीने 22 दिसंबर को की गई है।
वहीं टीम के सदस्य और सर्जिकल गैस्ट्रोएंट्रोलाजी विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डा. लोकेश अरोड़ा ने कहा कि पित्त के कैंसर का समय रहते इलाज न हुआ तो यह बीमारी तेजी से शरीर के अन्य भागों में भी फैल जाती है और मरीज का जीवन खतरे में पड़ जाता है।
एम्स ऋषिकेश की कार्यकारी निदेशक प्रोफेसर मीनू सिंह और चिकित्सा अधीक्षक प्रोफेसर आरबी कालिया ने इस सफल सर्जरी के लिए सर्जिकल एवं एनेस्थीसिया विभाग की टीम को बधाई दी है। उल्लेखनीय है कि एम्स में पेट रोग से संबंधित समस्या वाले रोगियों के लिए प्रत्येक मंगलवार, गुरुवार और शनिवार को गैस्ट्रो सर्जिकल ओपीडी नियमित तौर पर सुबह नौ बजे से दोपहर दो बजे तक संचालित होती है।

पढ़िए क्या है रोबोटिक सर्जरी | Gallbladder cancer surgery done using robotic technology

आपको बता दे कि रोबोटिक सर्जरी एक उच्चतम तकनीकी सर्जरी है। जिसमें एक रोबोटिक सिस्टम का उपयोग होता है जो चिकित्सक को सहायता रोबोटिक सर्जरी एक उच्चतम तकनीकी सर्जरी है। जिसमें एक रोबोटिक सिस्टम का उपयोग होता है जो ऑपरेशन करने के लिए चिकित्सक को सहायता करता है।
इसमें चिकित्सक विशेष उपकरणों और दृश्य प्रदान करने वाले संकेतकों का उपयोग करता है। जिन्हें रोबोटिक आर्म्स से नियंत्रित किया जाता है। इसमें चिकित्सक विशेष उपकरणों और दृश्य प्रदान करने वाले संकेतकों का उपयोग करता है। जिन्हें रोबोटिक आर्म्स से नियंत्रित किया जाता है।

ये भी पढिए : मसूरी : 22 करोड़ की लागत से गलोगी भूस्खलन जोन का ट्रीटमेंट शुरू..

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X