हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

जिलाधिकारी ने की समीक्षा बैठक। वन हेल्थ वाहन को दिखाई हरी झण्ड़ी, सोलर प्लांट का किया लोकार्पण..

उत्तरकाशी: यूएनडीपी सिक्योर हिमालय परियोजना के तहत ग्रीन रिकवरी पाथवे फाॅर इण्डिया परियोजना की समीक्षा बैठक जिलाधिकारी मयूर दीक्षित द्वारा एनआईसी कक्ष में ली गयी। इस दौरान रिकवरी पाथवे फाॅर इण्डिया परियोजना का मूल्यांकरण एवं आगे की रणनीति पर चर्चा की गई। जिलाधिकारी दीक्षित द्वारा  वन हेल्थ वाहन और भटवाड़ी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में 10 किलोवाट सोलर प्लांट हेल्थ सेन्टर सोलराइजेशन का लोकार्पण किया गया है। उक्त प्लांट यूएनडीपी के सहयोग से लगाया गया है।

यह भी पढ़ें: राजनीति: क्या है हरदा का डर? हरदा को लगा जोर का झटका, क्या BJP का बनेगा चुनावी हथियार..

यूएनडीपी से डाॅ. सिद्वार्थ द्वारा वन हेल्थ प्रोग्राम के बारे में विस्तार से बताया गया कि वन्यजीव द्वारा संक्रामक रोगों सें लड़ने से सार्वजनिक स्वास्थ विभाग एवं स्वास्थ्य कार्यकताओं की क्षमता का विकास करना, प्रौद्योगिक समाधान को व्यवस्थित करना है। तत्पश्चात यूएनडीपी से गणेश द्वारा खाद्य प्रसंस्करण, हर्षिल सेब की बेहतर विपणन एवं आर्थिक लाभ हेतु मूल्य श्रृखंला को मजबूत करना है। इस संबंध मे उन्होंने अपनी प्रगति पावर प्वांइन्ट के माध्यम से प्रस्तुतित दी, जिसमें मुख्य रुप सें सेब मूल्य श्रृृंखला का नेतृृत्व करने के लिए सामुदायिक संस्था का गठन, सुदृृढ़ीकरण एवं माॅडल नर्सरी हेतु उन्नत किस्म की गुणवत्तापूर्ण रोपण किया जाना।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: क्या कश्मीरी छात्र का है आतंकी कनेक्शन? अपने साथ ले गई J&K पुलिस, पढ़ें पूरा मामला..

कौशल विकास एवं समाज कल्याण संस्था द्वारा बताया गया कि खाद्य प्रसंस्करण को बढ़ाने के लिए 3 ब्लाॅक भटवाडी, मोरी, डुण्डा में 75 किसानों को जैविक खेती की प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण के दौरान ग्राम झाला में 20 महिलाओं द्वारा सेब की जैम, जेली उत्पाद तैयार किया गया। जिलाधिकारी द्वारा परियोजना कार्यों को सुचारु रुप से व्यवस्थित करने का सुझाव दिया गया। साथ ही उन्होंने वन हेल्थ वाहन को हरी झण्ड़ी दिखाकर रवाना किया गया। बैठक में अर्पणा पाण्ड़े परियोजना अधिकारी सिक्योर हिमालय, सुप्रिया परियोजना सहायक, संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम नई दिल्ली, पशु चिकित्सा अधिकारी उम्मेद धाकड़, परियोजना सहायक, सिक्योर हिमालय परियोजना उत्तरकाशी एवं पशु चिकित्सा अधिकारी आदि उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें: कंट्रोवर्सी क्वीन का पलटवार। 1947 में कौन सी लड़ाई लड़ी गई? कोई बताए तो लौटा दूंगी पद्मश्री..

Vote करें👉 उत्तराखंड में आप 2022 में किसकी सरकार चाहते है।

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X