हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

राजकीय महाविद्यालय पौखाल में आयोजित की गई गोरैया संरक्षण कार्यक्रम के तहत गोष्ठी।

टिहरी गढ़वाल: आज राजकीय महाविद्यालय पौखाल में गौरैया संरक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता महाविद्यालय के प्राचार्य प्रो. ए. एन. सिंह द्वारा की गई। गोष्ठी में डॉ. संजीव प्रसाद भट्ट द्वारा गोरैया के धार्मिक व संस्कृति महत्व को छात्रों को बताया गया। कार्यक्रम में डॉ. संदीप कुमार ने गोरैया के संदर्भ में चीन की एक घटना का जिक्र किया तथा गौरिया संरक्षण दिवस 20 मार्च से प्रारम्भ हुए गोरैया संरक्षण अभियान से छात्रों को जानकारी प्रदान की।

यह भी पढ़ें: जलमग्न होकर लोहारी गांव प्रदेश को करेगा रोशन, झील में डूबी ग्रामीणों की सुनहरी यादें। देखें तस्वीरें..

महाविद्यालय में आयोजित कार्यक्रम के दौरान गौरैया संरक्षण के लिए महाविद्यालय प्रांगण, महाविद्यालय में लगे हुए पेडों एवं अन्य सुलभ स्थानों पर घौसलों को स्थापित किया गया। महाविद्यालय प्राचार्य प्रो. ए. इन.सिंह ने गौरैया की घटती संख्या की ओर ध्यान आकर्षित करते हुए इसके संरक्षण के लिए प्रयास किये जाने पर जोर दिया एवं गोरैया की उपयोगिता पर बल दिया तथा गौरिया को बचाने के लिए अपने घरों में घोसलों को बनाने तथा पानी का पात्र रखने का सन्देश छात्र-छात्राओं को दिया।

यह भी पढ़ें: मदमहेश्वर व तुंगनाथ धाम के कपाट खोलने की तिथि कल होगी तय, नव निर्मित मदमहेश्वर के पुष्पक विमान के करें दर्शन..

महाविद्यालय गौरैया संरक्षण कार्यक्रम में डॉ. संदीप कुमार, डॉ. संजीव भट्ट, डॉ. अंधरूति शाह, डॉ. अनुरोध प्रभाकर, डॉ. संतोषी के अतिरिक्त कर्मचारीगण राजेन्द्र सिंह बिस्ट, मनोज राणा, राजेन्द्र सिंह, राजपाल सिंह, रोशन आर्य, अनिल सिंह के साथ सपना, अंजलि, शालनी, रामदेई, सुमन, किरन, कविता, प्रियंका, अंजलि,शिवानी आदि छात्र/छात्रएं उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें: गढ़वाल राइफल्स में इन पदों पर निकली भर्ती, दसवीं पास भी कर सकते हैं अप्लाई। पढ़ें पूरी जानकारी..


Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X