नैनीताल : गुलदार के खौफ से स्कूल बंद, मंदिरों में 5 बजे के बाद नहीं करने दिया जाएगा प्रवेश..

0
Schools closed due to fear of Guldar

Schools closed due to fear of Guldar : नैनीताल जिले में गुलदार के खौफ से और स्कूली बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए काकड़ी घाट क्षेत्र में प्राथमिक और जूनियर स्तर के स्कूलों को बंद कर दिया गया है। शिक्षा विभाग बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई की व्यवस्था कर रहा है। वहीं मंदिरों में भी शाम पांच बजे के बाद श्रद्धालुओं की प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा। श्रद्धालुओं को शाम पांच बजे के बाद मंदिर में प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा। गुलदार के आतंक को देखते हुए ये फैसला लिया है।

ये भी पढिए : देहरादून : पशुपालकों के लिए बड़ी खबर, सड़क पर घूमने वाले पालतू पशुओं को पहुंचाया जाएगा गोशाला..

छात्र-छात्राओं के लिए ऑनलाइन पढ़ाई की व्यवस्था का जाएगी | Schools closed due to fear of Guldar

गुलदार की दहशत का यह पूरा मामला नैनीताल जिले के गरमपानी क्षेत्र के काकड़ी घाट इलाके का है। दरअसल, हाल ही में इलाके में गुलदार देखा गया है, गुलदार की दस्तक से ग्रामीण काफी डरे हुए हैं।
इस संबंध में खंड शिक्षा अधिकारी एस एस चौहान ने मुख्य शिक्षा अधिकारी को पत्र लिखकर गुलदार का आतंक कम होने तक स्कूल को बंद करने और छात्र-छात्राओं के लिए ऑनलाइन पढ़ाई की व्यवस्था करने की बात कही है। खंड शिक्षा अधिकारी ने स्कूल समन्वयक को निर्देश जारी छात्र-छात्राओं की सुविधा के लिए ऑनलाइन पढ़ाई की व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं।

आदमखोर हो गया गुलदार | Schools closed due to fear of Guldar

बता दें कि कुछ दिनों पहले ही गुलदार ने गांव की सड़क पर स्थानीय निवासी जीवन सिंह पर हमला किया था, जिससे जीवन सिंह की मौत हो गई थी। बताया जा रहा है कि इस घटना के बाद से ही गुलदार आदमखोर हो गया। गुलदार स्कूल और मंदिर के आसपास के क्षेत्र में कई बार घूमता हुआ देखा गया है, जिससे पूरे इलाके में दहश्त का माहौल है। क्षेत्रीय निवासी भागवत जनतावल ने स्थानीय लोगों की जान पर मंडरा रहे खतरे को देखते हुए वन विभाग से क्षेत्र में पिंजरा लगाकर गुलदार को पकड़ने की मांग की है।

ये भी पढिए : Influenza Flu Disease को लेकर उत्तराखंड में अलर्ट जारी, स्वास्थ्य सचिव ने जारी किए दिशानिर्देश…

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X