हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

Health Tips: यूरिक एसिड बढ़ने से हो सकती हैं कई समस्याएं, ऐसे करें कंट्रोल..

आज के समय में अधिकतर लोगों में हाई यूरिक एसिड की समस्या देखी जा रही है। बता दें कि यूरिक एसिड एक प्रकार का कार्बनिक पदार्थ होता है जो शरीर में बहुत कम मात्रा में पाया जाता है। आमतौर पर शरीर में बनने वाला यूरिक एसिड किडनी के द्वारा फिल्टर होकर पेशाब के माध्यम से शरीर से बाहर निकल जाता है परंतु जब खून में इसकी मात्रा अधिक होने लगती है तो यह क्रिस्टल्स के रूप में टूटकर हड्डियों के बीच इकट्ठा होने लगते हैं। शरीर में प्यूरीन नामक तत्व के टूटने से यूरिक एसिड नाम के केमिकल का निर्माण होता है। जब व्यक्ति के शरीर में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ जाता है तो इसे मेडिकल टर्म में हाइपरयूरिसीमिया कहा जाता है। यूरिक एसिड का नॉर्मल रहना शरीर के लिए बहुत जरूरी है।

अगर ये शरीर में बढ़ने लगे तो व्यक्ति को कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। बता दें कि हाई यूरिक एसिड के मरीजों में लक्षण जल्दी सामने नहीं आते हैं इसलिए कई बार जब यह समस्या गंभीर बन जाती है तब लोगों को इसका पता चलता है। हाई यूरिक एसिड के मरीजों को जोड़ों में दर्द, सूजन, लालिमा, जी मिचलाना, अधिक प्यास लगना और चक्कर आना समेत कई तरह की परेशानियां होती हैं। इसके अलावा गाउट की बीमारी भी उत्पन्न हो सकती है। यह एक ऐसी बीमारी है जो व्यक्ति के शरीर में लंबे समय तक रह सकती है। आप दवाई और सही खानपान की मदद से यूरिक एसिड को कंट्रोल में रख सकते हैं।

यूरिक एसिड बढ़ने के कारण
स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार शरीर में मौजूद यूरिया यूरिक एसिड में परिवर्तित हो जाता है। जब किडनी ठीक तरीके से फिल्टर नहीं कर पाता है तो खून में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ जाता है। इसके अलावा खराब जीवनशैली, धूम्रपान, शराब का अधिक सेवन, मोटापा, जंक फूड, प्यूरीन फूड्स की अधिकता, दवाइयों का अधिक सेवन स्तर को बढ़ाने के लिए जिम्मेदार है।

नॉर्मल रेंज के बारे में जानें
स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक एक पुरुष का नॉर्मल यूरिक एसिड 3.4 से 7.0 mg/dL और एक महिला में नॉर्मल यूरिक एसिड 2.4 से 6.0 mg/dL होना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि अगर खून में यूरिक एसिड की मात्रा 7 mg/dL से ज्यादा होने लगे तो किडनी में पथरी, गाउट और गठिया जैसी समस्याएं शुरू होने लगती हैं। बता दें कि महिलाओं की तुलना में पुरुषों का यूरिक एसिड हाई रहता है।

इन 5 चीजों का करें सेवन, मिलेगा आराम
1- गाजर और खीरे का सेवन करें: गाजर के अंदर भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं। अपने उच्च फाइबर सामग्री के कारण गाजर और खीरा यूरिक एसिड को शरीर से बाहर निकालने में मददगार है।
2- ग्रीन एप्पल का जूस है फायदेमंद: ग्रीन एप्पल जूस के सेवन से व्यक्ति अपने यूरिक एसिड के स्तर को कम कर सकता है। इसके लिए सबसे पहले हरे सेब के छिलके को उतारना होगा। उसके बाद मिक्सी में ग्रीन एप्पल के टुकड़ों को डालकर मिश्रण तैयार कर लें। एक गिलास में छन्नी से छान कर जूस में सेंधा नमक डालकर पी जाए। आप चाहें तो बिना सेंधा नमक डाले भी जूस का आनंद उठा सकते हैं।
3- संतरे या कीनू का करें सेवन: संतरे और कीनू दोनों में विटामिन-सी की मात्रा पाई जाती है। यह दोनों यूरिक एसिड के स्तर को कम करने में बहुत लाभदायक रहते हैं।
4-ऑलिव ऑयल का करें उपयोग: हाई यूरिक एसिड के मरीजों को डॉ खाने में ऑलिव ऑयल का इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं। बता दें कि खाने में ऑलिव ऑयल के सेवन से सूजन की समस्या से राहत मिल सकती है।
5- ग्रीन टी है बड़ी फायदेमंद: ग्रीन टी की सहायता से आप यूरिक एसिड के स्तर को कम कर सकते है। सबसे पहले आपको ग्रीन टी की पत्तियों को पानी में उबालना होगा। इसके बाद इसे छानकर पानी में नींबू और शहद डालकर पी जाए। इसके अलावा आप टमाटर, नींबू, गाजर, ब्रोकली के जूस का भी सेवन कर सकते हैं।

विटामिन-सी युक्त चीजों का सेवन लाभदायक
यूरिक एसिड के स्तर को कम करने के लिए आप अपने आहार में खट्टे रसदार फल जैसे आंवला, नारंगी, नींबू, संतरा और टमाटर आदि को शामिल कर सकते हैं। ये सभी विटामिन-सी के अच्छे स्रोत हैं।

Disclaimer: HillVani लेख में जानकारी व सूचना को लेकर किसी तरह का दावा नहीं करता है। इस आर्टिकल में बताई गई विधि, तरीक़ों व दावों की भी पुष्टि नहीं करता है। इनको केवल सुझाव के रूप में लें। इस तरह के किसी भी उपचार / दवा / डाइट पर अमल करने से पहले चिकित्सक की सलाह अवश्य लें।

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X