हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

उत्तराखंड, नेपाल सहित उत्तर प्रदेश में भूकंप के झटके, मचा हड़कंप। रिक्टर पैमाने पर 4.6 रही तीव्रता…

Earthquake tremors in Uttar Pradesh including Uttarakhand, Nepal hillvani news

Earthquake tremors in Uttar Pradesh including Uttarakhand, Nepal hillvani news

पिथौरागढ़ः उत्तराखंड में एक बार फिर धरती हिली है। पिथौरागढ़ जिले में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। जहां भूकंप आया है, वो नेपाल सीमा के पास का क्षेत्र डीडीहाट तहसील के अस्कोट बताया जा रहा है। गनीमत रही कि इससे किसी नुकसान की कोई खबर नहीं है। हालांकि हम के झटकों से जनपदवासी दहशत में जरूर आ गए। भूकंप के झटके आज सुबह 10.03 बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 4.6 तीव्रता रही। जबकि गहराई 05 किमी रही। भूकंप का प्रभाव उप्र के मुरादाबाद, लखीमपुर खीरी, हरदोई, इटावा के अलावा भारत से लगे नेपाल के कई हिस्सों तक रहा।

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंड बोर्ड परीक्षा 2022: जल्द आने वाला है रिजल्ट, मूल्यांकन कार्य पूरा। इस तिथि तक घोषित होगा रिजल्ट.

जिला आपातकालीन परिचालन केंद्र पिथौरागढ़ द्वारा जनपद के सभी तहसील क्षेत्रांर्गत और जनपद पुलिस नियंत्रण कक्ष पिथौरागढ़ द्वारा समस्त थाना क्षेत्रांर्गत भूकंप से क्षति होने संबंधी सूचना प्राप्त की गई। अभी तक किसी तरह के नुकसान की कई सूचना नहीं है। पिथौरागढ़ जिले में सुबह 10.3 बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए। जिसके बाद लोग दहशत में घरों से बाहर निकले। हालांकि अभी तक किसी भी तरह से जानमाल के नुकसान की कोई सूचना नहीं मिली है। बताते चलें कि भूकंप के लिहाज से उत्तराखंड को अतिसंवेदनशील श्रेणी के जोन 5 में रखा गया है।

यह भी पढ़ेंः सुबह बासी मुंह पानी पीना आपकी सेहत के लिए ठीक है या नहीं? जानें फायदे और नुकसान..

भूकंप आने पर इन बातों का रखें ध्यान
भूकंप एक प्राकृतिक आपदा है। भूकंप आने पर अगर हम घबराने की वजह कुछ खास बातों का ध्यान रखें, तो आसानी से सुरक्षित बच सकते हैं।
1- मकान, दफ्तर या किसी भी इमारत में अगर आप मौजूद हैं तो वहां से बाहर निकलकर खुले में आ जाएं।
2- खुले मैदान की ओर भागें। भूकंप के दौरान खुले मैदान से ज्यादा सेफ जगह कोई नहीं होती।
3- किसी बिल्डिंग के आसपास न खड़े हों।
4- अगर आप ऐसी बिल्डिंग में हैं, जहां लिफ्ट हो तो लिफ्ट का इस्तेमाल कतई न करें। ऐसी स्थिति में सीढ़ियों का इस्तेमाल ही बेस्ट होता है।
5- घर के दरवाजे और खिड़की को खुला रखें।
6- घर की सभी बिजली स्विच को ऑफ कर दें।

यह भी पढ़ेंः बेहद खास है वैशाख मास की मोहिनी एकादशी, मोह के जंजाल से निकालती है ये एकादशी। जानें कब है और क्या हैं महत्व…

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X