हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

उत्तराखंड: मुख्यमंत्री ने की बड़ी घोषणा, पंचायत अध्यक्षों उपाध्यक्षों सहित इनका बढ़ाया गया मानदेय..


उत्तराखंड: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को महराणा प्रताप स्पोटर्स कॉलेज रायपुर देहरादून में लोक योजना अभियान-2021 “सबकी योजना सबका विकास” के अन्तर्गत गढ़वाल मण्डल के त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों एवं कार्मिक पंचायतीराज विभाग की एक दिवसीय राज्य स्तरीय अभिमुखीकरण कार्यशाला का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री द्वारा कोरोना काल में कार्य करने वाले ग्राम पंचायत विकास एवं सहायक विकास अधिकारी, पंचायत को एक क्लिक से पीएफएमएस के माध्यम से गढ़वाल मण्डल के 55 सहायक विकास अधिकारी, पंचायत एवं 455 ग्राम पंचायत विकास अधिकारियों प्रत्येक को 10-10 हजार रूपये की धनराशि कुल 510 कार्मिकों को 51 लाख की धनराशि त्वरित ट्रान्सफर की गयी।

यह भी पढ़ें: Gallantry Awards: देश के नायकों को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने किया सम्मानित, देखें लिस्ट..

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर घोषणा की कि जिला पंचायत अध्यक्षों का मानदेय 10 हजार रूपये से बढ़ाकर 14 हजार , उपाध्यक्षों का मानदेय 6000 से बढ़ाकर  9800, उप प्रधान का 500 से 1000, जिला पंचायत सदस्य का 1000 से बढ़ाकर 1500 प्रति बैठक एवं क्षेत्र पंचायत सदस्य 500 से 700 प्रति बैठक किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना काल में जन प्रतिनिधियों द्वारा सराहनीय कार्य किया गया। सभी प्रधानों को प्रशस्ति पत्र प्रदान किये जायेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रत्येक ग्राम पंचायत स्तर पर ओपन जिम खोलने की जो घोषणा की गई थी उसका शासनादेश हो चुका है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा समाज के हर वर्गों को ध्यान में रखते हुए योजनाएं चलाई जा रही है।

यह भी पढ़ें: NTPC Recruitment 2021: एग्जीक्यूटिव के पदों पर हो रही सीधी भर्ती, वेतन 60 हजार..

मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों से पलायन को रोकने के लिए विशेष प्रयास किये जा रहे हैं। रोजगार के साथ ही स्वरोजगार पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। जन समस्याओं का समाधान एक ही जगह पर हो इसके लिए लगातार कैंप लगाये जा रहे हैं। जनपदों में रोजगार मेले आयोजित किये जा रहे हैं। पंचायतीराज मंत्री  अरविन्द पाण्डेय ने कहा की कोविड काल के दौरान पंचायत प्रतिनिधियों ने अपनी जान की परवाह किये बगैर पंचायतों में जो कार्य किये वह सराहनीय है। पंचायतों में वर्तमान में सभी धनराशि ऑनलाइन आवंटित की जा रही है। पारदर्शिता के साथ कार्य हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि सीमित संसाधनों के बावजूद भी पंचायत प्रतिनिधियों द्वारा सराहनीय कार्य किया जा रहा है। कार्यशाला में पंचायतीराज विभाग एवं अन्य रेखीय विभागों के विशेषज्ञों द्वारा कार्यशाला में आये हुए समस्त प्रतिभागियों को प्रशिक्षण दिया गया।

यह भी पढ़ें: अनूठा मामला: गुनहगार कौन? यहां ठंड में अर्धनग्न होकर बिच्छू घास पर बैठ युवक दे रहा धरना। जानें क्यों?

त्रिस्तरीय पंचायतों में जीपीडीपी बीपीडीपी एवं डीपीडीपी में पंचायतों की आवश्यकतानुसार प्लान बनाकर अपलोड किये जाने के सम्बन्ध में सभी प्रतिभागियों को अवगत कराया गया, जिससे पंचायतों को मिलने वाले अनुदान का उचित एवं आवश्यकतानुसार प्रबन्धन कर सकें। पंचायतें प्राप्त अनुदान के सापेक्ष अपने-अपने क्षेत्र की यथा आश्यकतानुसार योजनाओं का चयन कर प्लान बनायेंगे। जिससे बजट अनुदान प्रथमतः आवश्यक एवं विकास परक योजनाओं पर व्यय किया जा सकेगा। इस अवसर पर गढ़वाल मण्डल के सभी जिलों के जिला पंचायत अध्यक्ष/ उपाध्यक्ष, सदस्य जिला पंचायत, प्रमुख / ज्येष्ट उप प्रमुख / कनिष्ठ उप प्रमुख सदस्य क्षेत्र पंचायत प्रधान / उप प्रधान आदि पंचायत पदाधिकारियों ने प्रशिक्षण प्राप्त किया।

यह भी पढ़ें: हादसा: टाटा सुमो गिरी गहरी खाई में, एक की मौत।एसडीआरएफ ने रात में ही किया रेस्क्यू..

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X