हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

कल कैबिनेट के साथ शपथ लेंगे धामी, जानें कौन कौन होंगे शामिल..

Hillvani-New-CM-Utarakhand

Hillvani-New-CM-Utarakhand

देहरादूनः उत्तराखंड का ताज एक बार फिर पुष्कर सिंह धामी के सर सज चुका है। पुष्कर सिंह धामी सूबे के 12वें सीएम बन गए हैं। देहरादून में हुई बीजेपी की विधायक दल की बैठक में यह फैसला लिया गया है। लगभग 11 दिनों के मंथन के बाद आखिरकार फैसला आ गया है। एक बार फिर मुख्यमंत्री के लिए पुष्कर सिंह धामी के नाम पर पार्टी आलाकमान ने मोहर लगाई है। यानि धामी 23 मार्च को फिर मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले हैं। आपको बता दें की उत्तराखंड के 2022 विधानसभा चुनावों में पुष्कर सिंह धामी के नाम पर चुनाव लड़ा गया। लेकिन वह खटीमा से ही चुनाव हार गए। ऐसे में क्यास यह लगाए गए कि मुख्यमंत्री के रूप में पुष्कर सिंह धामी की जगह किसी और को मौका दिया जा सकता है। हालांकि पुष्कर सिंह धामी के पक्ष में कई विधायकों ने आलाकमान से आग्रह भी किया था।

यह भी पढ़ेंः महंगाई का डबल डोज: गैस सिलेंडर भी हुआ महंगा, जानिए कितनी हुई बढ़ोतरी..

उत्तराखंड के मनोनीत मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी 23 मार्च को दोपहर 3:30 बजे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। इस दौरान उनके साथ कैबिनेट मंत्रियों को भी शपथ दिलाई जाएगी। शपथ ग्रहण समारोह देहरादून के परेड ग्राउंड में आयोजित होगा। आपको बता दें मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के शपथ ग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय मंत्री और कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों के आने की संभावना जताई जा रही है। ऐसे में बीजेपी लगातार कह रही है कि पुष्कर सिंह धामी का शपथ ग्रहण समारोह भव्य और दिव्य होगा इसके लिए तमाम तैयारियां संगठन ने पूरी कर ली हैं। वहीं जिला प्रशासन ने भी तमाम तैयारियों को अंतिम रूप देना शुरू कर दिया है।

यह भी पढ़ेंः चुनाव खत्म: उत्तराखंड में पेट्रोल डीजल के दाम बढ़े, जानिए क्या है नया रेट..

गैरतलब हो कि चुनाव से छह महीने पहले ही उत्तराखंड के सबसे कम उम्र के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने उत्तराखंड के 11वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी। भगत सिंह कोश्यारी के करीबी माने जाने वाले धामी ने भाजपा की युवा इकाई से राजनीति की शुरुआत की थी और 2002 से 2008 तक भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष रहे। 2012 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने उन्हें खटीमा सीट से उम्मीदवार बनाया जिसमें उन्होंने जीत हासिल की। 2017 में एक बार फिर वे खटीमा सीट से विधायक बने और प्रदेश के मुखिया के रूप में बागडोर उन्हें सौपी गई थी। अब चुनाव में ऐतिहासिक जीत के बाद फिर उन्हें मौका दिया गया है। अब 23 मार्च को शपथ लेने के बाद पुष्कर सिंह धामी को छह महीने के भीतर चुनाव करवाकर विधायक बनाना होगा। इसके लिए किसी विधायक की सीट खाली की जाएगी।

यह भी पढ़ेंः धामी दोबारा:आखिर क्यों? भाजपा ने फिर पुष्कर धामी को चुना। जानिए..

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X