हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

4 दिनों में तिसरी बार महंगाई की मार, 2.40 रुपये महंगा हुआ पेट्रोल-डीजल..

Hillvani-Petrol-Diseal-Rate

Hillvani-Petrol-Diseal-Rate

रूस-यूक्रेन जंग के चलते अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों के कारण तेल कंपनियों पर पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ाने को लेकर दबाव बना हुआ है। इस बीच 4 दिन में तीसरी बार पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ा दिए गए हैं। इस बाबत एक दिन पहले देश के टॉप फ्यूल रिटेलर इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन एक लीटर पेट्रोल और डीजल पर 80 पैसे की बढ़ोतरी का नोटिफिकेशन फ्यूल डीलर्स को भेज दिया था। नोटिफिकेशन के मुताबिक शुक्रवार को दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल की कीमत 97.81 रुपये होगी जबकि डीजल 89.07 रुपये में एक लीटर मिलेगा।

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंड में समान नागरिक संहिता लागू करने की उठ रही मांग, लेकिन राह नहीं आसान..

इस बढ़ोतरी के बाद पेट्रोल और डीजल की कीमतों में 4 दिन के भीतर कुल 2.40 रुपये की बढ़ोतरी हो चुकी है। हाल ही में देश के पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों के दौरान करीब 137 दिनों तक पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कोई बढ़ोतरी नहीं हुई थी, जबकि इस दौरान अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें 45 फीसदी बढ़ गईं थी। 137 दिन तक 22 और 23 मार्च को 80-80 पैसे प्रति लीटर के दाम बढ़ाए गए। हालांकि बीते दिन गुरुवार को कीमतें जस की तस रहीं।

यह भी पढ़ेंः भक्ति के वातावरण में डूबी केदारघाटी, डमरू व कांस की थाली की ध्वनि से भक्तिमय हुई घाटी..

जानिए आपके शहर में कितना है दाम
पेट्रोल-डीजल की कीमत आप एसएमएस के जरिए भी जान सकते हैं। इंडियन ऑयल की वेबसाइट पर जाकर आपको RSP और अपने शहर का कोड लिखकर 9224992249 नंबर पर भेजना होगा। हर शहर का कोड अलग-अलग है, जो आपको आईओसीएल की वेबसाइट से मिल जाएगा। बता दें कि प्रतिदिन सुबह छह बजे पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बदलाव होता है। सुबह छह बजे से ही नई दरें लागू हो जाती हैं। पेट्रोल व डीजल के दाम में एक्साइज ड्यूटी, डीलर कमीशन और अन्य चीजें जोड़ने के बाद इसका दाम लगभग दोगुना हो जाता है।

यह भी पढ़ेंः पहाड़ की हकीकतः खंडहर में तब्दील हुआ खूबसूरत लुठियाग गांव..

इन्हीं मानकों के आधार पर पर पेट्रोल रेट और डीजल रेट रोज तय करने का काम तेल कंपनियां करती हैं। डीलर पेट्रोल पंप चलाने वाले लोग हैं। वे खुद को खुदरा कीमतों पर उपभोक्ताओं के अंत में करों और अपने स्वयं के मार्जिन जोड़ने के बाद पेट्रोल बेचते हैं। पेट्रोल रेट और डीजल रेट में यह कॉस्ट भी जुड़ती है। वहीं विपक्षी राजनीतिक पार्टियों का आरोप है कि पांच राज्यों के चुनाव के कारण मोदी सरकार ने तेल कंपनियों को मूल्य बढ़ाने से रोक रखा था। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का भाव 112 डॉलर प्रति बैरल पहुंचने के बाद रविवार को तेल कंपनियों ने डीजल के थोक खरीदारों के लिए मूल्य में 25 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी की थी। तेल डीलरों का कहना है कि खुदरा मूल्य में धीरे-धीरे वृद्धि की जाएगी।

यह भी देखेंः

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X