हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

केदारनाथ क्षेत्र में नई सोच अलग मुहिम के तहत मनोज रावत ने किए कार्य…

रुद्रप्रयाग: केदारनाथ विधानसभा सीट उत्तराखंड की महत्वपूर्ण विधानसभा सीट है, जहां 2017 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने जीत दर्ज की थी। इस बार केदारनाथ विधानसभा सीट के परिणाम किस पार्टी के पक्ष में होंगे, यह जनता को तय करना है। केदारनाथ विधानसभा सीट उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में आती है। 2017 में केदारनाथ में कुल 24.74 प्रतिशत वोट पड़े। 2017 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से मनोज रावत ने निर्दलीय प्रत्याशी कुलदीप सिंह रावत को हराया था। 14 फरवरी को होने वाले विधानसभा चुनाव के मतदान होंगे जिसको लेकर सभी दलों के प्रत्याशी जी जान से जन संपर्क व प्रचार प्रसार कर रहे हैं।

केदारनाथ विधानसभा के निवर्तमान विधायक मनोज रावत लगातार जन सम्पर्क कर रहे हैं जहां उनको जनता का भरपूर प्यार और सहयोग मिल रहा है। विशेषकर क्षेत्र की महिलाओं और युवाओं का पूर्ण समर्थन उनके साथ है। विधायक मनोज रावत ने एक नारा दिया “किताब बनाम शराब” जो विधानसभा क्षेत्र ही नहीं जनपद ही नहीं पूरे प्रदेश में गूंज रहा है। मनोज रावत ने विधानसभा के सभी गांव में लाइब्रेरी पहुंचने का काम किया है। अब उनकी हर गांव में लाइब्रेरी की सोच को केदारनाथ ही नहीं बल्कि अन्य जिलों में भी मुद्दा बनाया जा रहा है। खुद 5 साल तक उच्च शिक्षा मंत्री रहे धन सिंह ने जीतने के बाद हर गांव में लाइब्रेरी खोलने का वादा किया है। मतलब साफ है कि शिक्षा ही समाज को बदल सकती है।

यह भी पढ़ें: जब एक सोच विचारधारा बन जाती है..

आज हर आदमी किताबों से दूर जा रहा है ऐसे में मनोज रावत की हर गांव लाइब्रेरी की मुहिम 70 विधानसभाओं में होनी चाहिए। निवर्तमान विधायक मनोज रावत ने क्षेत्र में पर्यटन की ही नहीं बल्कि कई नई सोच पैदा की हैं उन्होंने चौमासी से केदारनाथ, कयाकिंग, माउंटेन बाइकिंग और तुंगनाथ से तुंगनाथ ट्रैक करवाए। इसके अलावा उन्होंने माल्या मुल्क की पहचान दोखा को खुद पहनकर नई पहचान दी। केदारनाथ घाटी में पर्यटन की इतनी संभावनाए है कि ना केवल रुद्रप्रयाग बल्कि अन्य जिलों की आजीविका भी इससे बेहतर हो सकती है। मांगल गीतों के प्रयास को कौन भूल सकता है।

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X