हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

दुःखद खबर: घास लेने गई महिला को तेंदुआ ने बनाया अपना शिकार। परिजनों में कोहराम..

चंपावत: उत्तराखंड में मानव वन्यजीव संघर्ष थमने का नाम नहीं ले रहा है खासकर पहाड़ों में आए दिन जंगली जानवर लोगों को अपना शिकार बना रहे हैं। लेकिन मानव वन्यजीव संघर्ष की घटनाओं को रोकने को लेकर अब तक सरकार प्रशासन ने कोई ठोस कदम नहीं उठाए हैं। जिसकी वजह से आए दिन पहाड़ के किसी न किसी गांव से दुःखद खबर आती रहती है। आज ऐसा ही हादसा चंपावत जिले के ढकना गांव में हुआ जहां जंगल घास लेने गई महिला को गुलदार ने अपना शिकार बना लिया, घटना के बाद जहां गांव में दहशत है तो वहीं परिवार में शोक की लहर है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड मंत्रिमंडल बैठक में कई प्रस्ताव पर लगी मुहर, पढ़ें खबर..

मिली जानकारी के मुताबिक बीते दिन सोमवार की सुबह 9:00 बजे चंपावत से लगे ढकना गांव की 35 वर्षीय मीना नरियाल पत्नी रमेश सिंह रोज की तरह अपनी साथी महिलाओं के साथ हथिया नौला के पास जंगल में घास काटने के लिए गई थी। ठीक 11:00 बजे के आसपास झाड़ी में घात लगाए बैठे आदमखोर गुलदार ने महिला पर हमला बोल दिया और महिला को घसीटते हुए ले गया, मीना की चीख पुकार सुनते ही अन्य साथी महिलाओं ने तुरंत हल्ला और शोरगुल किया तो पास में ही एक भेड़ चरा रहा गडरिया भी रुका हुआ था।

यह भी पढ़ें: खूबसूरती और संस्कृति का अद्भुत संगम है उत्तराखंड, पर्यटकों का मन मोह लेती हैं ये 10 जगह..

लोगों के द्वारा खूब हो हल्ला करने पर गुलदार महिला को छोड़कर भाग गया। जिसके बाद आनन-फानन में लोग गांव की तरफ सूचना देने भागे। लेकिन महिला की जान नहीं बच सकी। ग्रामीणों ने बताया कि महिला के सिर के एक हिस्से को गुलदार खा गया जबकि अन्य हिस्सों को बुरी तरह नोच गया था, वहीं ग्रामीणों ने तत्काल वन विभाग से आदमखोर गुलदार को पकड़ने या फिर मारने की मांग की है। इस घटना के बाद जहां गांव में दहशत है तो वहीं परिजनों में कोहराम मचा हुआ है।

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X