हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

केदारनाथ की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली कल ओंकारेश्वर से होगी रवाना, डोली यहां करेंगी रात्रि प्रवास..

ऊखीमठ। लक्ष्मण नेगी: पर्वतराज हिमालय की गोद में बसे भगवान केदारनाथ के कपाट खोलने की प्रक्रिया आज रविवार को शीतकालीन गद्दी स्थल ओकारेश्वर मन्दिर में भैरव पूजन के साथ शुरू हो गयी है। कल सोमवार को भगवान केदारनाथ की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली के शीतकालीन गद्दी स्थल ओकारेश्वर मन्दिर से धाम रवाना होगी तथा प्रथम रात्रि प्रवास के लिए विश्वनाथ मंदिर गुप्तकाशी पहुंचेगी। जानकारी देते हुए प्रभारी कार्यधिकारी आर सी तिवारी सुपरवाइजर यदुवीर पुष्वाण ने बताया कि रविवार देर सांय केदारनाथ यात्रा का आगाज भैरव पूजन के साथ हो गया है।

यह भी पढ़ें: मैक्स वाहन गहरी खाई में गिरा, दर्दनाक हादसा में 2 लोगों की मौत अन्य गंभीर घायल..

उन्होंने बताया कि भैरवनाथ को केदार पुरी का क्षेत्र रक्षक माना जाता है तथा लोक मान्यताओं के अनुसार भगवान केदारनाथ के शीतकालीन गद्दी स्थल ओकारेश्वर मन्दिर में भैरव पूजन के बाद भैरवनाथ केदार पुरी के लिए रवाना हो जाते है। सोमवार को भगवान केदारनाथ की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली ब्राह्मणों की वेद ऋचाओं, आर्मी व स्थानीय वाध्य यंत्रों व श्रद्धालुओं की जयकारों के साथ ऊखीमठ से धाम के लिए रवाना होगी तथा विभिन्न यात्रा पडावों पर भक्तों को आशीष देते हुए प्रथम रात्रि प्रवास के लिए विश्वनाथ मन्दिर पहुंचेगी।

यह भी पढ़ें: आखिर क्यों नहीं निकल रही सेना में भर्ती? भारतीय सेना में 97,000 पद खाली। युवा आत्महत्या को मजबूर..

3 मई को भगवान केदारनाथ की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली द्वितीय रात्रि प्रवास के लिए फाटा 4 मई को गौरी माता मन्दिर गौरीकुण्ड पहुंचेगी और 5 मई को केदारनाथ धाम पहुंचेगी। केदारनाथ की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली 6 मई को प्रातः 6 बजकर 25 मिनट पर भगवान केदारनाथ के कपाट जय केदार, जय शंकर के उदघोषों के साथ भक्तों के दर्शनार्थ खोल दिये जायेगें।

यह भी पढ़ें: चारधाम के लिए यात्रियों की संख्या निर्धारित, जानें क्या हैं आदेश..

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X