हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

चारधाम यात्रा के लिए श्रद्धालुओं की संख्या निर्धारित, जानें क्या हैं आदेश..

0
Registration full in Kedarnath and Yamunotri Dham till 31st May

Registration full in Kedarnath and Yamunotri Dham till 31st May

उत्तराखंड: चार धाम यात्रा की शुरुआत तीन मई से हो रही है। उसकी तैयारियों को लेकर स्थानिय प्रशासन के अलावा राज्य सरकार भी पूरे जोर शोर से लगी हुई है। इस दौरान अब उत्तराखंड में चार धाम यात्रा के लिए यात्रियों की संख्या निर्धारित कर दी गई है। ये यात्रा की व्यवस्था पहले 45 दिन के लिए बनाई गई है। चार धाम यात्रा के दौरान यात्रियों की संख्या मंदिर समिति द्वारा निर्धारित कर दी गई है।

यह भी पढ़ें:

एक दिन में पहुंच पाएंगे इतने श्रद्धालु
बद्रीनाथ धाम के दर्शन के लिए हर दिन 15000 यात्री दर्शन करेंगे। वहीं केदारनाथ के दर्शन के लिए हर दिन 12 हजार यात्री दर्शन करेंगे। इसके अलावा गंगोत्री में 7000 यात्री एक दिन में कर दर्शन करेंगे। जबकि एक दिन में यमुनोत्री में चार हजार श्रद्धालु ही दर्शन कर सकेंगे। शासन की ओर से इस संबंध में आदेश जारी कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड के लिए दुःखद खबर, वीरभूमि का लाल मां भारती की सेवा के दौरान शहीद..

कब शुरू होगी चारधाम यात्रा?
कोरोना की वजह से पिछले दो सालों से चार धाम की यात्रा का संचालन नहीं हो पा रहा था लेकिन इस बार पूरे जोरो-शोरों के साथ चार धाम यात्रा की तैयारी की जा रही है। 3 मई को अक्षय तृतीया के शुभ अवसर पर गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट खुलने के साथ यात्रा आरंभ हो जाएगी। गौरतलब है कि इस साल चार धाम यात्रा में बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद जताई जा रही है। ऐसे में सरकार और प्रशासन द्वारा पुख्ता बंदोबस्त भी किए गए हैं। श्रद्धालुओं को किसी तरह की कोई परेशानी ना हो इसके लिए पर्याप्त व्यवस्थाएं की जा रही हैं।

यह भी पढ़ें: ओंकारेश्वर से 2 मई को रवाना होगी बाबा केदार की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली, आज भैरव पूजन के साथ होगा यात्रा का आगाज..

यह भी निर्देश दिए गए हैं
(i) चार धाम यात्रा सीजन के दौरान उत्तराखंड में आने वाले तीर्थ यात्रियों व श्रद्धालुओं की जान-माल की सुरक्षा को दृष्टिगत रखते हुए चार धाम यात्रा मार्गों पर रात्रि 10:00 बजे से प्रातः 4:00 बजे तक वाहनों का यातायात व आवागमन प्रतिबन्धित रहेगा।
(ii) चार धाम यात्रा में आने वाले तीर्थ यात्रियों व श्रद्धालुओं हेतु पर्यटन विभाग के पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराया जाना अनिवार्य होगा।
(iii) चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा समय-समय पर निर्गत कोविड प्रोटोकॉल का अनुपालन किया जाना अनिवार्य होगा।
(iv) उत्तराखण्ड चार धाम यात्रा के सम्बन्ध में समय-समय पर शासन द्वारा लिये गये व लिये जाने वाले निर्णयों का व्यापक प्रचार प्रसार पर्यटन व सूचना विभाग के द्वारा किया जायेगा।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंडः राज्यसभा सीट के लिए कौन होगा भाजपा उम्मीदवार? दौड़ में ये शामिल, जुलाई में खाली हो रही सीट..


Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X