Health Tips: क्या गले में है भारीपन? बन सकता है गंभीर बीमारी का कारण। जानें इस समस्या का घरेलू उपचार..

0

मौसम में बदलाव की वजह से अक्सर यह परेशानी कई लोगों को होती है। खासतौर पर सर्दी, जुकाम, बुखार और गले में इंफेक्शन की वजह से गले में भारीपन महसूस होता है। इसके अलाव कई अन्य ऐसे कारण हैं, जिसकी वजह से गले में भारीपन महसूस हो सकता है। जैसे- धूल-मिट्टी, बढ़ता प्रदूषण, अधिक धूम्रपान का सेवन, वायरस और बैक्टीरियल संक्रमण की वजह से आपको गले में भारीपन महसूस हो सकता है। लेकिन अगर यह समस्या लंबे समय तक रहती है, तो यह गंभीर बीमारी का कारण बन सकती है। ऐसे में गले में भारीपन को दूर करने के लिए घरेलू नुस्खों को आजमाना आपके लिए बेहतर साबित हो सकता है। आज हम गले में भारीपन के कारण और इस समस्या को दूर करने के उपायों के बारे में जानेंगे।

क्यों होता है गले में भारीपन, क्या हैं कारण
– वायरल और बैक्टीरियल संक्रमण
– सर्दी-जुकाम की समस्या के कारण गले में भारीपन हो सकता है। 
– काली खांसी की वजह से गले में सूजन होने पर गले में भारीपन की शिकायत हो सकती है। 
– फ्लू की समस्या होने पर गले में भारीपन हो सकता है। 
– अधिक धूम्रपान करने वालों को गले में भारीपन हो सकता है।
– धूल-मिट्टी और प्रदूषण की वजह से गले में भारीपन की शिकायत हो सकती है। 

गले में भारीपन दूर करने का घरेलू उपाय
अदरक: गले में भारीपन की समस्या को दूर करने के लिए आप अदरक का सेवन कर सकते हैं। अदरक में एंटी-बैक्टीरियल गुण पाया जाता है, जो गले के संक्रमण और भारीपन को दूर करने में आपकी मदद कर सकता है। गले में भारीपन को दूर करने के लिए आप नियमित रूप से अदरक की चाय पी सकते हैं। इससे गले में भारीपन की शिकायत दूर होगी।
शहद का करें सेवन: गले में भारीपन की शिकायत को दूर करने के लिए आप शहद का सेवन कर सकते हैं। दरअसल, शहद में एंटी-इंफ्लेमेटरी का गुण पाया जाता है, जो गले में सूजन और दर्द को कम करने में आपकी मदद कर सकता है। गले में भारीपन की समस्या को दूर करने के लिए आप नियमित रूप से 1 चम्मच शहद का सेवन करें। इससे आपको काफी आराम मिलेगा। 

हल्दी है लाभकारी: गले में भारीपन को दूर करने के लिए आप हल्दी का इस्तेमाल कर सकते हैं। हल्दी में एंटी-इफ्लेमेटरी एंटी-फंगल और एंटी-बैक्टीरियल गुण पाया जाता है, जो गले में संक्रमण की परेशानी को दूर करने में आपकी मदद कर सकता है। ऐसे में यह गले में भारीपन की समस्या को भी कम कर सकता है। अगर आपको बार-बार गले में भारीपन महसूस हो रही है, तो रोजाना हल्दी वाला दूध पिएं। इससे आपको काफी राहत महसूस होगा।
लहसुन है लाभकारी: गले में भारीपन को दूर करने के लिए आप लहसुन का सेवन कर सकते हैं। दरअसल, लहसुन में एंटी-बैक्टीरियल गुण पाया जाता है, जो गले के संक्रमण को दूर कर सकता है। इससे गले में भारीपन की समस्या ठीक हो सकती है। अगर आपको गले में दर्द और सूजन की शिकायत है, तो नियमित रूप से 1 से 2 लहसुन की कलियों को अपने मुंह में दांत के नीचे दबाकर रखें। इससे आपको काफी आराम महसूस होगा। 

काली मिर्च का करें सेवन: काली मिर्च में एंटी-ऑक्सीडेंट्स और एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण होते हैं जो सर्दी-जुकाम और गले में खराश की परेशानी को दूर करता है। हेल्थ एक्सपर्ट्स का मानना है कि इसे खाने से गला साफ होता है और दर्द गायब हो जाता है।
सेब का सिरका: गले में भारीपन की परेशानी को कम करने के लिए आप सेब के सिरके का इस्तेमाल कर सकते हैं। दरअसल, सेब के सिरके में विटामिन सी पाया जाता है, जो गले में मौजूद संक्रमण की समस्या को कम करता है। गले में भारीपन होने पर आप 1 गिलास गर्म पानी में 1 चम्मच नमक और सेब का सिरका मिक्स करके पिएं। इससे आपको काफी लाभ मिलेगा। 

सोते समय इससे करें गरारा: जिन लोगों को गले में दर्द और निगलने में परेशानी होती है उन्हें रात को सोने से पहले गरारा करना चाहिए। सबसे पहले दो गिलास पानी को बर्तन में डालकर गैस पर चढ़ाएं। फिर उसमें आधा चम्मच हल्दी और इतने ही मात्रा में सेंधा नमक मिलाएं। 10 मिनट तक उबलने दें और फिर इससे सोने से पहले और सुबह उठने के बाद गरारा करें।
मुलेठी: मुलेठी गले की समस्याओं के लिए अमृत के समान है। मुलेठी की छोटी-सी गाँठ को कुछ देर मुंह में रखकर चबाएँ। इससे गले की खराश दूर होती है, और दर्द तथा सूजन से राहत मिलती है।
मुनक्का: मुनक्के का सेवन भी गले के संक्रमण से राहत दिलाता है। इसके लिए सुबह 4-5 मुनक्के चबाकर खाएं, और ऊपर से पानी ना पिएं।

Disclaimer: HillVani लेख में जानकारी व सूचना को लेकर किसी तरह का दावा नहीं करता है। इस आर्टिकल में बताई गई विधि, तरीक़ों व दावों की भी पुष्टि नहीं करता है। इनको केवल सुझाव के रूप में लें। इस तरह के किसी भी उपचार / दवा / डाइट पर अमल करने से पहले चिकित्सक की सलाह अवश्य लें।

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X