हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

जैविक राज्य की तरफ बढ़ता उत्तराखंड, जैविक खेती का बढ़ा रुझान…

Hillvani-Organic-Farming-Uttarakhand

Hillvani-Organic-Farming-Uttarakhand

देहरादूनः उत्तराखंड के कदम लगातार जैविक राज्य बनने की तरफ आगे बढ़ता जा रहा है। देश प्रदेश के बाजार में जैविक उत्पादों की मांग को देखते हुए प्रदेश के किसानों का रुझान भी जैविक खेती के प्रति बढ़ रहा है। यही वजह है कि बीते चार सालों में उत्तराखंड में जैविक खेती का क्षेत्रफल लगातार बढ़ाता जा रहा है। परंपरागत कृषि विकास योजना के तहत 6100 क्लस्टरों के माध्यम से 1.23 लाख हेक्टेयर क्षेत्र को जैविक खेती के अधीन लाने पर भी काम चल रहा है। राज्य गठन के बाद उत्तराखंड में कृषि क्षेत्रफल में कमी आई है। वहीं 20 सालों में 15 से 17 प्रतिशत की कृषि क्षेत्रफल कम हुआ है। वर्तमान में 6.48 लाख हेक्टेयर क्षेत्रफल में लगभग नौ लाख किसान खेती कर रहे हैं। उत्तराखंड को जैविक राज्य बनाने की दिशा में किसानों ने जैविक खेती की तरफ कदम बढ़ाए हैं। जिससे जैविक खेती का क्षेत्रफल बढ़ता जा रहा है।

यह भी पढ़ेंः फिर सुर्खियों में ऋषिकेश एम्स। नर्सिंग भर्ती के बाद अब आउटसोर्स कर्मचारियों की नियुक्तियों में भी बड़ा खेल..

वर्तमान में 4.5 लाख किसान कर रहे जैविक खेती
चार साल पहले प्रदेश में 16 हजार हेक्टेयर पर ही जैविक खेती होती थी। जो बढ़ कर 2.30 लाख हेक्टेयर पर पहुंच गई है। कुल कृषि क्षेत्र के 34 प्रतिशत पर जैविक विधि से परंपरागत फसलों, फल, सब्जी, दालें, जड़ी-बूटी, एरोमा फसलों की खेती की जा रही है। लगभग साढ़े चार लाख किसान जैविक खेती कर रहे हैं। उत्तराखंड जैविक उत्पाद परिषद के प्रबंध निदेशक विनय कुमार का कहना है कि प्रदेश के किसान अब जैविक खेती की तरफ प्रोत्साहित हो रहे हैं। जिसकी वजह से जैविक खेती का रकबा हर साल बढ़ रहा है। परंपरागत कृषि विकास योजना के तहत 6100 क्लस्टरों के माध्यम से 1.23 लाख हेक्टेयर क्षेत्र को जैविक खेती के दायरे में लाने की योजना है। इस पर काम चल रहा है। जबकि 4600 क्लस्टरों पर किसान जैविक खेती कर रहे हैं।

यह भी पढ़ेंः आप भी हैं एसिडिटी से परेशान तो अपनाएं ये घरेलू उपचार..

पीजीएस प्रणाली से जैविक उत्पाद के गुणवत्ता की गारंटी
सहभागिता जैविक प्रतिभूति प्रणाली (पीजीएस) जैविक उत्पादन की एक ऐसी प्रक्रिया है, जो स्थानीय स्तर पर उत्पादक और उपभोक्ता की भागीदारी को सुनिश्चित कर तृतीय पक्षीय प्रणामीकरण प्रक्रिया से अलग रहकर उत्पाद गुणवत्ता की गारंटी देती है। पीजीएस प्रणाली के तहत वर्तमान में 1.20 लाख मीट्रिक टन खाद्यान्न और 1.30 लाख मीट्रिक टन फल व सब्जियों का उत्पादन हो रहा है।

चार वर्षों में जैविक खेती का क्षेत्रफल
वर्ष क्षेत्रफल हेक्टेयर में
2017-18 35106
2018-19 124365
2019-20 154226
2020-21 230540

यह भी पढ़ेंः प्रदेश में कांग्रेस बीजेपी पीट रही जीत के ढोल। आखिर क्यों?

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X