हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

Big Breaking: केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह आज पहुंचेंगे उत्तराखंड, मुख्यमंत्री ने की पुष्टि..

0

देहरादून: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह उत्तराखंड पहुंच रहे हैं। भारी बारिश से राज्य में मची तबाही पर वो राज्य व केंद्रीय एजेंसियों के साथ समीक्षा बैठक करने के अलावा कल एरियल सर्वे भी कर सकते है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह दो दिन पूर्व ही राज्य में जारी भारी बारिश के बाबत मुख्यमंत्री धामी से फोन पर वार्ता कर हर संभव मदद का भरोसा दे चुके है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने भी इस बात की पुष्टि की है कि आज गृह मंत्री अमित शाह शाम 4:00 बजे दिल्ली से रवाना होंगे और 5:00 बजे तक देहरादून पहुंच जाएंगे। जहां वह उत्तराखंड के तमाम अधिकारियों के साथ साथ केंद्रीय एजेंसियों के अधिकारियों के साथ उत्तराखंड आपदा को लेकर समीक्षा करेंगे। वहीं केंद्रीय गृहमंत्री रात्रि विश्राम आज उत्तराखंड में ही करेंगे और कल सुबह आपदा प्रभावित क्षेत्रों का एरियल सर्वेक्षण करेंगे। साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि गृहमंत्री के इस दौरे से उत्तराखंड के आपदा प्रभावित लोगों को केंद्र द्वारा भी राहत देने की घोषणा हो सकती है।

यह भी पढ़ें- उत्तराखंड: आज भी आपदा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करेंगे मुख्यमंत्री, जानिए कब पहुंचेंगे कहां..

आपको बता दें उत्तराखंड में 3 दिन की लगातार बारिश से अभी तक 46 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आपदा प्रभावित क्षेत्रों में डेरा जमा दिया है और वह लगातार आपदा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर आपदा प्रभावितों के चोट पर मरहम लगाने का काम कर रहे हैं। ऐसे में अब केंद्रीय गृहमंत्री के उत्तराखंड दौरे से उत्तराखंड के लोगों को और राहत मिलने की संभावना जग गई है। अब तक 46 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है, साथ उफान में आई नदियों में बाढ़ जैसी स्थिति बनी हुई है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक नैनीताल में 29, अल्मोड़ा में 6, चम्पावत में 4, पिथौरागढ़ में 1, बागेश्वर में 1, उधमसिंह नगर में 1 की मौत की पुष्टि हुई है। मुख्यमंत्री धामी ने मृतकों के परिजनों को 4–4 लाख रुपए और भवन पशु क्षति पर मानकों के अनुसार मुआवजा राशि देने की घोषणा की है।
 

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X