हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

विश्व अखाड़ा परिषद की ओर से अयोध्या भेजा गया रुद्रप्रयाग संगम का जल..

0
Rudraprayag Sangam water sent to Ayodhya

Rudraprayag Sangam water sent to Ayodhya : आगामी 22 जनवरी को अयोध्या में राम मंदिर का प्राण प्रतिष्ठा होने जा रहा जिसको लेकर पूरे देश में जश्न का माहौल है। वहीं विश्व अखाड़ा परिषद (गौ रक्षा विभाग) की ओर से रुद्रप्रयाग संगम का जल अयोध्या भेजा गया है। यह जल राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में इस्तेमाल किया जाएगा।
बता दे जहां एक तरफ मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने 14 से 22 जनवरी तक गांव और शहरों में दीपावली की भांति ही विशेष कार्यक्रम आयोजित करने के निर्देश दिए हैं। तो वहीं विश्व अखाड़ा परिषद (गौ रक्षा विभाग) की ओर से अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम के लिए अलकनंदा, मंदाकिनी, रुद्रप्रयाग संगम, गौरीकुंड, देवप्रयाग संगम का गंगा जल भेजा है। यह जल प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में इस्तेमाल किया जाएगा।

ये भी पढिए : स्वयं सहायता समूहों से जुड़कर महिलायें बन रही हैं आत्मनिर्भर – सीएम धामी..

‘हिमालय लाडली’ से विख्यात साध्वी विचित्र रचना को सौंपा गया | Rudraprayag Sangam water sent to Ayodhya

यह जल रुद्रप्रयाग संगम, अलकनंदा, मंदाकिनी, देव प्रयाग संगम, गौरी माई गौरीकुंड से जमा किया गया है। जिसे ‘हिमालय लाडली’ से विख्यात साध्वी विचित्र रचना को सौंपा गया, जो श्रीराम जन्मभूमि अयोध्या में आयोजित प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में देवभूमि के चारधामों से गंगा जल लेकर जा रही है। गंगा जल के साथ ही वे सवा क्विंटल लड्डू का प्रसाद, 108 भगवा ध्वज के अलावा केदारनाथ बाबा का स्मृति चिन्ह लेकर भी अयोध्या जाएंगी।
विश्व अखाड़ा परिषद (गौ रक्षा विभाग) के जिलाध्यक्ष रोहित डिमरी ने कहा कि अखंड भारत शक्तिपीठ ट्रस्ट की अध्यक्ष और कथा ब्यास साध्वी विचित्र रचना प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में भाग लेने के लिए अयोध्या जा रही हैं। वे देवभूमि उत्तराखंड से गंगा जल लेकर जा रही हैं।

श्रीराम के प्राण- प्रतिष्ठा कार्यक्रम को लेकर हर्षोल्लास का माहौल बना है | Rudraprayag Sangam water sent to Ayodhya

साध्वी विचित्र रचना के रुद्रप्रयाग आगमन पर विश्व अखाड़ा परिषद के गौर रक्षा विभाग के पदाधिकारियों ने उन्हें गंगा जल सौंपा। उन्होंने बताया कि श्रीराम के अयोध्या लौटने पर साध्वी विचित्र रचना का भी वनवास खत्म होने जा रहा है। उन्होंने साल 2010 में भविष्य बदरी में संकल्प लिया था कि वे साधु होने के बाद भी संन्यासी के वस्त्र तब तक नहीं पहनेंगी, जब तक अयोध्या में राम मंदिर नहीं बनेगा और उस पर भगवा ध्वज नहीं लहराएगा।
अब जाकर साध्वी विचित्र रचना का यह संकल्प श्रीराम के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम से पूरा होने जा रहा है। गौ रक्षा विभाग के जिलाध्यक्ष रोहित डिमरी ने कहा कि पूरे देश में श्रीराम के प्राण- प्रतिष्ठा कार्यक्रम को लेकर हर्षोल्लास का माहौल बना है। हर एक व्यक्ति कार्यक्रम का साक्षी बनना चाहता है।

ये भी पढिए : उत्तराखंड : 22 जनवरी को राज्य में नहीं खुलेगें शराब की दुकानें, सीएम धामी ने दिए निर्देश..

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X