हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

चारधाम यात्राः 31 मई तक केदारनाथ और यमुनोत्री धाम में पंजीकरण फुल, जानें कितने लोग कर चुके हैं दर्शन..

Registration full in Kedarnath and Yamunotri Dham till 31st May

Registration full in Kedarnath and Yamunotri Dham till 31st May

उत्तराखंडः केदारनाथ और यमुनोत्री धाम में दर्शन करने के लिए 31 मई तक वहन क्षमता के अनुसार पंजीकरण फुल हो चुके हैं, जबकि बदरीनाथ धाम में 20 मई और गंगोत्री धाम में 25 मई के बाद पंजीकरण उपलब्ध हैं। केदारनाथ धाम में अब तक दो लाख से अधिक श्रद्धालु दर्शन कर चुके हैं। आपको बता दें कि केदारनाथ, बदरीनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री धाम में तीर्थयात्रियों की बढ़ती भीड़ को नियंत्रित करने के लिए सरकार ने अब धामों की वहन क्षमता के अनुसार पंजीकरण की व्यवस्था की है। बिना पंजीकरण के तीर्थयात्रियों को रोका जा रहा है। जिससे धामों में क्षमता से अधिक श्रद्धालु पहुंचने से अव्यवस्थाओं का सामना न करना पड़े। सरकार ने केदारनाथ धाम के लिए 13 हजार, बदरीनाथ धाम के लिए 16 हजार, गंगोत्री के लिए आठ हजार और यमुनोत्री धाम के लिए पांच हजार प्रतिदिन संख्या तय की है।

यह भी पढ़ेंः द्वितीय केदार भगवान मदमहेश्वर के कपाट खोलने की प्रक्रिया शुरू, 19 मई को खुलेंगे कपाट..

अब धामों की वहन क्षमता के अनुसार ही यात्रियों का पंजीकरण किया जा रहा है। केदारनाथ और यमुनोत्री धाम में दर्शन करने के लिए इस माह तक पंजीकरण उपलब्ध नहीं है, जबकि बदरीनाथ धाम जाने के लिए 20 मई और गंगोत्री धाम में 25 मई के बाद पंजीकरण उपलब्ध है। बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति की रिपोर्ट के अनुसार सोमवार तक केदारनाथ में दो लाख और बदरीनाथ धाम में 1.60 लाख से अधिक श्रद्धालु दर्शन कर चुके हैं। उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद के वरिष्ठ शोध अधिकारी एसएस सामंत का कहना है कि सरकार की ओर से चारधामों के लिए वहन क्षमता के अनुसार प्रतिदिन दर्शन के लिए तीर्थयात्रियों की संख्या तय की गई है। इसके आधार पर तीर्थयात्रियों का पंजीकरण किया जा रहा है। केदारनाथ व यमुनोत्री धाम में इस माह तक वहन क्षमता के मुताबिक पंजीकरण पूरे हो चुके हैं।

यह भी पढ़ेंः धामी सरकार जून में पेश करेगी बजट। जनता से लिए जा रहे सुझाव, पढ़िए क्या रहेंगी खास बातें..

धामों में 15 मई तक दर्शन करने वालों की संख्या
धाम श्रद्धालु
केदारनाथ 187284
बदरीनाथ 142548
यमुनोत्री 87060
गंगोत्री 103429

यह भी पढ़ेंः क्यों होता है कमर के निचले हिस्से में दर्द? नजरअंदाज न करें। जानिए कब डॉक्टर को दिखाना है जरूरी…

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X