हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

Kamleshwar Temple Pauri Garhwal: यहां खड़े दिए का अनुष्ठान कर होती हैं संतान प्राप्ति, 128 लोगों ने कराया पंजीकरण..

0
Kamleshwar Temple Srinagar Gandwal

Kamleshwar Temple Pauri Garhwal: हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी बैकुंठ चतुर्थदर्शी को कमलेश्वर मंदिर में खड़े दिए का अनुष्ठान होना हैं। पौराणिक मान्यताओ के अनुसार जो भी निसंतान दंपति खड़े दिए का अनुष्ठान करता हैं। उसे संतान प्राप्ति होती हैं जिसके लिए देश के विभिन्न्न जगह से यहां दंपति पहुचते हैं और खड़े दिए का अनुष्ठान करते हैं।

ये भी पढिए : मुख्यमंत्री ने मुंबई में किया फिल्म उद्योग से जुड़ी हस्तियों से विचार विमर्श..

कमलेश्वर महादेव मंदिर में बैकुंठ चतुर्दशी पर्व पर 25 नवंबर को शुरू होगा | Kamleshwar Temple Pauri Garhwal

सिद्धपीठ कमलेश्वर महादेव मंदिर में बैकुंठ चतुर्दशी पर्व पर 25 नवंबर को गोधुली बेला पर संतान प्राप्ति की कामना को लेकर परंपरानुसार विधि विधान से खड़े दीया पूजन शुरू होगा। खड़े दीया पूजन में अभी तक 128 से अधिक दंपत्तियों ने अनुष्ठान के लिए पंजीकरण करा दिया है। जबकि अभी पंजीकरण जारी हैं। आयोजन को लेकर तैयारियां जोरों पर हैं। कमलेश्वर मंदिर के मंहत आशुतोष पुरी महाराज ने बताया कि खड़े दीया व्रत के लिए अभी तक विभिन्न प्रदेशों से 128 से अधिक दंपतियों ने अपना पंजीकरण करा दिया है। पंजीकरण कराने वालों में बेंगलुरू, मध्यप्रदेश, हिमाचल, दिल्ली, हरियाणा, उत्तरप्रदेश और उत्तराखंड सहित अन्य राज्यों की निसंतान दंपति शामिल हैं।

विधायक धनसिंह रावत द्वारा कराया जा रहा हैं | Kamleshwar Temple Pauri Garhwal

अनुष्ठान को लेकर मंदिर में सौंदर्यकरण का काम चल रहा जो कि क्षेत्रीय विधायक धनसिंह रावत द्वारा कराया जा रहा हैं। महंत आशुतोष पूरी ने कहा कि जो भी निसंतान दंपति यहां खड़े दिए का अनुष्ठान करता हैं उसे संतान प्राप्ति होती ऐसे कई दंपति हैं जिन्होंने खड़े दिए का अनुष्ठान कर संतान प्राप्ति की हैं जिसमें देवप्रयाग विधायक विनोद कण्डारी,गढ़वाल सांसद तिरथ सिंह रावत ,पूर्व मुख्य मंत्री भुवन चंद्र सिंह खंडूड़ी समेत कई दंपति ने भी यहाँ संतान प्राप्ति के लिए खड़े दिए का अनुष्ठान कर संतान प्राप्ति की हैं।

ये भी पढिए : Uttarakhand Student Union Elections: छात्रसंघ चुनाव में बजा ABVP का डंका, डालें परिणामों पर एक नजर..

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X