हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

उत्तराखंड: जोशीमठ में जियो टेक्निकल सर्वे तेज, 48 मीटर ड्रिल के बाद मिली चट्टान..

0
Geo technical survey intensifies in Joshimath

Geo technical survey intensifies in Joshimath : उत्तराखंड के जोशीमठ में जियो टेक्निकल सर्वे तेजी से किया जा रहा है। बता दे अलग-अलग जगहों पर चल रहे सर्वे में जमीन के अंदर से सैंपल लिए जा रहे जिनकी लैब में जांच की जाएगी, जिसके बाद यह पता चल पाएगा कि जोशीमठ के अंदर चट्टानें कितनी मजबूत हैं। वहीं रिपोर्ट के आधार पर सरकार जोशीमठ के संबंध में आगे का निर्णय लेगी। जोशीमठ नगर में नीदरलैंड की फुगरो कंपनी के साथ दिल्ली की खन्ना एसोसिएशन की ओर से सर्वे किया जा रहा है।

ये भी पढिए : स्वयं सहायता समूहों से जुड़कर महिलायें बन रही हैं आत्मनिर्भर – सीएम धामी..

चट्टानों की मजबूती जांचने के लिए कराया जा रहा जियो टेक्निकल सर्वे | Geo technical survey intensifies in Joshimath

आपको बता दे कि जोशीमठ में पिछले साल जनवरी में हुए भू-धंसाव के बाद यहां पर लोक निर्माण विभाग की ओर से जमीन के अंदर चट्टानों की मजबूती को जांचने के लिए जियो टेक्निकल सर्वे कराया जा रहा है। नीदरलैंड की मुंबई बेस फुगरो कंपनी यहां पर नवंबर से सर्वे कर रही है। कंपनी की ओर से सुनील वार्ड, मनोहर बाग वार्ड और सिंहधार वार्ड में सर्वे कर लिया गया है। सुनील वार्ड में गहराई में चट्टान नहीं मिली है जबकि मनोहर बाग और सिंहधार वार्ड में ड्रिल करने पर चट्टान मिल चुकी थी। अब कंपनी गांधीनगर वार्ड में सर्वे कर रही है। जबकि खन्ना एसोसिएशन दिल्ली की कंपनी मारवाड़ी वार्ड के अंतर्गत मारवाड़ी पुल के पास सर्वे कर रही है। यह स्थान अलकनंदा के ठीक ऊपर और जोशीमठ नगर के निचले क्षेत्र में स्थित है।

48 मीटर तक ड्रिल करने के बाद मिली चट्टान | Geo technical survey intensifies in Joshimath

अब मारवाड़ी में 48 मीटर तक ड्रिल करने के बाद चट्टान मिली है जिसके सैंपल लिए गए हैं। यह स्थान अलकनंदा के ठीक ऊपर और जोशीमठ नगर के निचले क्षेत्र में स्थित है। अब क्षेत्र के दूसरे हिस्से में सर्वे किया जाएगा। जहां-जहां सर्वे कार्य किया गया है वहां से लिए गए सैंपलों को लैब में जांच के लिए भेजा जा रहा है। रिपोर्ट में पता चल पाएगा कि जमीन के अंदर जो चट्टानें हैं वह कितनी मजबूत हैं। वहीं नगर में अभी तक चार जगहों पर सर्वे कार्य कर लिया गया है।

ये भी पढिए : टीबी मुक्त उत्तराखंड की दिशा में स्वास्थ्य विभाग की बड़ी उपलब्धि..

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X