हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

उत्तराखंडः दो कोचिंग सेंटरों के संचालकों पर होगा मुकदमा, जानें क्या है मामला..

0
Subordinate Services Selection Commission. Hillvani News

Subordinate Services Selection Commission. Hillvani News

विभिन्न विभागों के स्नातक स्तरीय परीक्षा में कुछ अभ्यर्थियों पर सवाल खड़े करने वाले दो कोचिंग सेंटरों के संचालकों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने के लिए उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने रायपुर थाना पुलिस को शिकायत दी है। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है, जल्द ही इस मामले में मुकदमा दर्ज किया जा सकता है। आयोग के अध्यक्ष जीएस मर्तोलिया ने बताया कि नौ जुलाई को विभिन्न विभागों के स्नातक स्तरीय पदों की लिखित प्रतियोगी परीक्षा आयोजित की गई, जिसके बाद 21 जुलाई को उक्त पदों के दस्तावेज सत्यापन व टंकण परीक्षा के लिए सूची आयोग की वेबसाइट पर जारी की गई। इसमें तीन अभ्यर्थियों के बारे में गलत अफवाह फैलाई गई।

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंडः जंगली मशरूम की सब्जी खाने से पति-पत्नी की मौत, मां अस्पताल में भर्ती..

बताया गया कि अभ्यर्थी जगदीश सिंह के लोक सेवा आयोग हरिद्वार की ओर से आयोजित पटवारी-लेखपाल भर्ती परीक्षा में 16 अंक थे, जबकि आयोग की ओर से आयोजित स्नातक स्तरीय परीक्षा में उन्होंने पांचवां स्थान प्राप्त किया है। जांच में सामने आया कि जगदीश सिंह की उम्र सीमा अधिक होने के चलते वह पटवारी-लेखपाल परीक्षा के लिए पात्र नहीं थे। इसी तरह कमल किशोर पुत्र दीवान राम व चंद्र शेखर पुत्र दीवान राम आयोग की स्नातक स्तरीय परीक्षा में सफल अभ्यर्थी रहे हैं। इनके बारे में यह अफवाह फैलाई गई कि दोनों भाई हैं व परीक्षा में गलत तरीकों का प्रयोग करके पास हुए हैं।

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंड के सांसदों के साथ भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व की बैठक आज, इन मुद्दों पर भी बनेगी रणनीति..

जांच में स्पष्ट हुआ है कि कमल किशोर जिला नैनीताल और चंद्रशेखर बागेश्वर जिले के रहने वाले हैं और भाई नहीं हैं। आयोग की ओर से करवाई गई जांच में यह भी सामने आया है कि दो कोचिंग सेंटर संचालक भी खुद इस परीक्षा में शामिल हुए थे, लेकिन परीक्षा में असफल रहे। इन्होंने आयोग व सफल अभ्यर्थियों की छवि धूमिल करने के उद्देश्य से यह अफवाह फैलाई है। थानाध्यक्ष रायपुर कुंदन राम ने बताया कि इस मामले में आयोग की ओर से दी गई शिकायत मिल गई है। शिकायत में कोचिंग सेंटर व अफवाह फैलाने का नाम शामिल नहीं है। इसके साथ ही अफवाह क्या फैलाई गई है, इसके भी साक्ष्य नहीं हैं। ऐसे में मंगलवार को वह चौकी इंचार्ज को भेजकर दस्तावेज मांगेंगे। इसके बाद अगली कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंड में मौसम विभाग का पुर्वानुमान, जानें कैसा रहेगा मौसम..

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X