हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

26 साल बाद DNA टेस्ट से बेटे को पता चला अपने बाप का नाम, जानें क्या हैं पूरा मामला..

लखनऊः दिल को झकझोर देने वाली यह घटना साल 1994 की है। इस मामले की कहानी एकदम फिल्मी है। जहां एक बेटे ने 28 साल पहले अपनी मां के साथ हुए गैंग रेप के दोषियों को सजा दिलवाने के लिए जो लड़ाई शुरू की थी जिसमें उसे कामयाबी मिली गई है। दरअसल वारदात के समय पीड़िता महिला 12 साल की थी और अपनी बहन और बहनोई के घर पर रहती थी। पीड़िता की बहन और बहनोई दोनों सरकारी नौकरी में थे। एक दिन मौका पाकर पड़ोस के नकी हसन और गुड्डू ने उसके साथ गैंग रेप किया और वो प्रेग्नेंट हो गई। जब पीड़िता ने बेटे को जन्म दिया तो उन्होंने अपने दूर के परिचित को वो बच्चा दे दिया। वहीं पीड़ित महिला जब शादी के लायक हुई तो बहन-बहनोई ने उसकी शादी गाजीपुर में करवा दी। उधर बेटा जब 26 साल का हुआ तो उसने अपने असली मां-बाप का पता लगाना शुरू किया।

यह भी पढ़ेंः मुख्यमंत्री ने किया भ्रष्टाचार मुक्त उत्तराखण्ड एप- 1064 का शुभारम्भ

यह भी पढ़ेंः वायरल वीडियोंः महंत की दादागिरी, महिलाओं को घर से उठाकर रेप करने की दी धमकी। FIR दर्ज..

आखिरकार उसने 26 साल बाद लखनऊ में अपनी मां को खोज निकाला और अपने पिता के बारे में पूछताछ। जब उसे पता चला कि उसकी मां का गैंग रेप हुआ था तो वह बेचैन हो गया। उसने अपनी मां को इंसाफ दिलाने के लिए 1 साल पहले थाना सदर बाजार में लकी हसन और गुड्डू के खिलाफ गैंगरेप का मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने कार्रवाई आगे बढ़ाते हुए दोनों आरोपियों और गैंगरेप से पैदा हुए बेटे का डीएनए कराया तो दोनों का डीएनए मैच कर गया। असली घटना सामने आने के बाद पीड़िता के पति ने भी उसे तलाक दे दिया था। शिकायत दर्ज कराने वाला बेटा और पीड़ित मां इस वक्त लखनऊ में रह रहे हैं। उधर डीएनए मैच होने के बाद दोनों आरोपी फरार हैं। पुलिस का कहना है कि जल्द ही दोनों की गिरफ्तारी कर ली जाएगी।

यह भी पढ़ेंः अब बिना कार्ड के सभी बैंकों के एटीएम से निकलेगा पैसा, RBI ने लगाई मुहर..

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X