हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

उत्तराखंडः जमीन से 150 फुट ऊपर अटक गई रोपवे ट्रॉली, 12 यात्रियों की अटकी सांसें..

0
Uttarakhand-Nainital-Ropeway-Hillvani-News

Uttarakhand-Nainital-Ropeway-Hillvani-News

पर्यटन नगरी के रूप में मशहूर नैनीताल में यात्रियों की जान उस वक्त आफत में आ गई जब तकनीकी खराबी के चलते ट्रॉली अचानक बीच में ही रुक गई। ट्रॉली रुकने से उसमें सवार लोगों में हड़कंप मच गया। ट्रॉली में सवार 12 यात्री एक घंटे तक हवा में ही लटके रहे। केएमवीएन प्रबंधन की तकनीकी टीम ने आनन फानन में ट्रॉली में सवार छह विदेशी सैलानियों समेत कुल 12 लोगों को रस्सी के सहारे रेस्क्यू कर सुरक्षित नीचे जमीन पर उतार लिया। करीब एक घंटे रेस्क्यू अभियान चला।

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंड PCS-J की मुख्य परीक्षा को लेकर अपडेट, इस तिथि को जारी होंगे प्रवेश पत्र। पढ़ें..

बता दें कि बृहस्पतिवार दोपहर बाद लगभग साढ़े तीन बजे के करीब छह विदेशी पर्यटक व कुछ स्थानीय लोग अपने बच्चों के साथ रोपवे से स्नोव्यू जा रहे थे। रोपवे की ट्रॉली, स्टेशन से लगभग सौ मीटर दूरी पर पहुंची ही थी कि ट्रॉली के काउंटर की ओर एक आवाज आई। आवाज आने पर ट्रॉली में सवार टेक्नीशियन ने जांच की तो वहां बैरिंग टूटा हुआ मिला। इसके बाद सुरक्षा की दृष्टि से ट्रॉली को रोक दिया गया। ट्रॉली रुकने से उसमें सवार लोगों में हड़कंप मच गया। बताया जाता है कि लगभग एक घंटे तक ट्रॉली 150 फीट की ऊंचाई में हवा में लटकी रही।तत्पश्चात रोपवे प्रबंधन ने ट्रॉली में मौजूद विदेशी सैलानियों व अन्य सभी लोगों को रस्सी व अन्य उपकरणों की मदद से जमीन पर सुरक्षित उतार लिया। नीचे पहुंचने पर ट्रॉली में सवार सभी लोगों ने राहत की सांस ली।

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंड: इस स्कूल में एक के बाद एक बेहोश हुई 10 छात्राएं, मचा हड़कंप..

आपको बता दें कि कुमाऊं मंडल विकास निगम की ओर से संचालित रोपवे की ट्रॉली इससे पहले फरवरी 2019 में भी घंटे भर तक हवा में लटकी रही। तब भी ट्रॉली में दस यात्री सवार थे। इससे रोपवे प्रबंधन में हड़कंप मच गया था। इसके बाद में रोपवे प्रबंधन ने किसी तरह रस्सी व अन्य उपकरणों की मदद से ट्रॉली में फंसे सैलानियों को जमीन पर सुरक्षित उतार लिया था।

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंड युवाओं के लिए खुशख़बरी, अब इस विभाग में होगी 1082 पदों पर भर्ती..

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X