हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

भगवान तुंगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली पहुंची अपने शीतकालीन गद्दी स्थल मक्कूमठ..

Lord Tungnath's moving Deity Utsav Doli reached Makkumath. Hillvani News

Lord Tungnath's moving Deity Utsav Doli reached Makkumath. Hillvani News

पंच केदारों में तृतीय केदार के नाम से विश्व विख्यात भगवान तुंगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली अपने शीतकालीन गद्दी स्थल मक्कूमठ में विराजमान हो गयी है। भगवान तुंगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली के मक्कूमठ आगमन पर श्रद्धांलुओं व ग्रामीणों में भारी उत्साह देखने को मिला। गुरूवार से भगवान तुंगनाथ की शीतकालीन पूजा विधि-विधान से शुरू होगी। भगवान तुंगनाथ की डोली के मक्कूमठ आगमन पर मेरठ के भक्तों द्वारा विशाल भण्डारे का आयोजन किया गया। बुधवार को ब्रह्म बेला पर भनकुण्ड में विद्वान आचार्यों ने पंचाग पूजन के तहत अनेक पूजायें सम्पन्न कर भगवान तुंगनाथ सहित तैतीस देवी-देवताओं का आवाहन किया तथा ठीक 10 बजे प्रातः भगवान तुंगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली शीतकालीन गद्दी स्थल मक्कूमठ के लिए रवाना हुई तथा भगवान तुंगनाथ चल विग्रह उत्सव डोली विभिन्न पड़ावों पर ग्रामीणों ने पुष्प, अक्षत्रों से भव्य स्वागत तथा राकेश्वरी नदी पहुंचने पर भगवान तुंगनाथ की डोली सहित विभिन्न देवी-देवताओं के निशाणो ने गंगा स्नान किया। भगवान तुंगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली के शीतकालीन गद्दी स्थल मक्कूमठ पहुंचने पर ग्रामीणों व भक्तों द्वारा लाल-पीले वस्त्र अर्पित कर मनौती मांगी तथा अनेक प्रकार की पूजा सामाग्रियों से अर्ध्य लगाकर क्षेत्र के खुशहाली की कामना की। भगवान तुंगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली के शीतकालीन गद्दी स्थल मक्कूमठ में विराजमान होने पर मठापति राम प्रसाद मैठाणी द्वारा दान की परम्पराओं का निर्वहन किया तथा विद्वान आचार्यों ने अनेक पूजायें सम्पन्न कर आरती उतारी तथा भगवान तुंगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली शीतकालीन गद्दी स्थल के गर्भगृह में विराजमान हुई।

यह भी पढ़ेंः Uttarakhand Foundation Day: इन विभूतियों को मिला उत्तराखंड गौरव पुरस्कार, 3 को मरणोपरांत..

भगवान तुंगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली के शीतकालीन गद्दी स्थल मक्कूमठ आगमन पर मेरठ निवासी बीरेन्द्र शर्मा के नेतृत्व में 16 सदसस्दीय टीम द्वारा विशाल भण्डारे का आयोजन किया गया जिसमें सैकड़ों भक्तों ने प्रतिभाग किया। जानकारी देते हुए मन्दिर समिति कार्यधिकारी आर सी तिवारी ने बताया कि अगले वर्ष से भगवान तुंगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली के मक्कूमठ से कैलाश रवाना होने तथा डोली के कैलाश से मक्कूमठ आगमन पर शीतकालीन गद्दी स्थल मक्कूमठ मन्दिर को भव्य रूप से सजाने की कार्य योजना मन्दिर समिति द्वारा तैयार की जा रही है। वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी यदुवीर पुष्वाण ने बताया कि मन्दिर समिति शीतकालीन गद्दी स्थलों के व्यापक प्रचार – प्रसार शुरू करने की तैयारी कर रही है जिससे शीतकालीन यात्रा में वृद्धि हो सके। इस मौके पर जिला पंचायत सदस्य रीना बिष्ट, प्रधान विजयपाल नेगी, पावजगपुडा अरविन्द रावत, क्षेत्र पंचायत सदस्य जसवीर नेगी, विनोद सेमवाल, व्यापार संघ अध्यक्ष चोपता भूपेन्द्र मैठाणी, प्रबन्धक बलवीर सिंह नेगी, चन्द्र मोहन बजवाल, रवीन्द्र मैठाणी, अतुल मैठाणी, विनोद मैठाणी, चन्द्र प्रकाश मैठाणी, गीता राम मैठाणी, मुकेश मैठाणी, जय कृष्ण मैठाणी, चन्द्र बल्लभ मैठाणी, भरत प्रसाद मैठाणी मोहन प्रसाद मैठाणी, मगनानन्द भटट्, सुनीता सेमवाल, एस पी सेमवाल, जय सिंह चौहान, प्रमोद कैशिव, प्रताप सिंह रावत, अरूण रावत, मनोज शर्मा, जीतपाल भण्डारी, सोहन सिंह बिष्ट सहित मन्दिर समिति के अधिकारी, कर्मचारी, हक-हकूकधारी सहित सैकड़ों श्रद्धालु मौजूद थे।

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंड ने 23वें साल में किया प्रवेश। राज्य की ये हैं उपलब्धियां-नाकामियां, पढ़ें आंदोलन की पूरी कहानी..

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X