हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

PMGSY की अनदेखी दे रही बड़े हादसे को न्यौता। कुम्भकर्णी नींद से कब जागेगा विभाग?

ऊखीमठ। लक्ष्मण नेगी: पीएमजीएसवाई विभाग की अनदेखी के कारण कोल्लू बैण्ड – स्वारी ग्वास 8 किमी मोटर मार्ग जानलेवा बना हुआ है। मोटर मार्ग पर जगह – जगह बने गडढे तथा डामरीकरण उखडने से मोटर मार्ग पर कभी भी बड़े हादसे को न्यौता मिल सकता है। विभाग द्वारा मोटर मार्ग के तहत रख – रखाव पर प्रति वर्ष लाखों रुपये पानी की तरह बहाये तो जाते है मगर मोटर मार्ग के रख – रखाव पर व्यय होने वाली धनराशि का धरातलीय क्रियावयन न होने से विभागीय कार्यप्रणाली सवालों के घेरे में आ गयी है। स्थानीय जनप्रतिनिधियों व जनता द्वारा कई बार विभागीय अधिकारियों से मोटर मार्ग के रख – रखाव व जगह – जगह उखडे डामर का डामरीकरण की गुहार तो लगायी गयी है मगर विभागीय अधिकारी ग्रामीणों की फरियाद सुनने के बजाय चैन की नींद सोने में भलाई समझ रहे है।

यह भी पढ़ें: एक और मौका: इन पदों पर आवेदन भरने की तिथि बढ़ी, आदेश जारी। जल्द करें आवेदन..

ग्रामीणों ने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि विभाग द्वारा समय पर मोटर मार्ग की सुध नहीं ली गयी तो ग्रामीणों को शासन – प्रशासन व सम्बंधित विभाग के खिलाफ सड़कों पर उतरने के लिए बाध्य होना पडे़गा जिसकी पूर्ण जिम्मेदारी सम्बन्धित विभाग की होगी। बता दे कि पीएमजीएसवाई का कोल्लू बैण्ड – स्वारी ग्वास मोटर मार्ग निर्माण काल से ही विवाद में रहा। मोटर मार्ग निर्माण के दौरान विभाग द्वारा मोटर मार्ग की गुणवत्ता को दरकिनार किये जाने पर ग्रामीणों की फरियाद पर वर्ष 2014 में तत्कालीन जिलाधिकारी राघव लंगर द्वारा मजिस्ट्रेट जांच तो बिठाई गयी थी मगर मजिस्ट्रेट जांच किन फाइलों में कैद हुई यह आज तक यक्ष प्रश्न बना हुआ है।

यह भी पढ़ें: नौकरी का मौकाः इंजीनियर और लॉ ऑफिसर के पदों की यहां निकली भर्ती, जल्द करें आवेदन…

वर्ष 2019 में विभाग द्वारा मोटर मार्ग के अनुरक्षण पर लाखों रुपये व्यय तो किये गये मगर दिसम्बर माह में मोटर पर अनुरक्षण के तहत व्यय हुए लाखों रुपये का मामला फिर जिलाधिकारी से लेकर मुख्यमंत्री दरवार तक पहुंचा। दिसम्बर माह में कडाके की ठंड में डामरीकरण होने का मामला डीएम से लेकर सीएम दरबार तक पहुंचने पर जिला प्रशासन ने आनन – फानन में जांच तो बिठाई मगर वह जांच भी आज तक फाइलों में धूल फांक रही है। वर्तमान समय की बात करे तो विभागीय अनदेखी के कारण मोटर मार्ग के 70 प्रतिशत हिस्से का डामरीकरण उखडने से ग्रामीणों को जान – जोखिम में डालकर आवाजाही करनी पड़ रही है।

यह भी पढ़ें: आजादी के 7 दशक बाद भी विकास की राह ताक रहा ये गांव, मामूली बीमारी के लिए भी दौड़ते हैं 20 किमी..

क्षेत्र पंचायत सदस्य अर्जुन सिंह नेगी ने बताया कि विभागीय लापरवाही के कारण मोटर मार्ग जानलेवा बना हुआ है तथा मोटर मार्ग पर बने गडढे कभी भी बडे़ हादसे को न्यौता दे सकते है। उप प्रधान प्रेम सिंह नेगी ने बताया कि मोटर मार्ग पर अधिकांश डामरीकरण उखडने से मोटर मार्ग गड्ढों में तब्दील होता जा रहा है। नव युवक मंगल दल अध्यक्ष दीपक नेगी, वन पंचायत सरपंच बीरेन्द्र सिंह नेगी, राजेश्वरी देवी, उमा देवी, पुष्पा देवी, महिपाल सिंह, चयन सिंह, गुरूदीप सिंह, महेश सिंह, धर्म सिंह, बलराम सिंह, प्रदीप सिंह आदि ग्रामीणों का कहना है कि यदि समय रहते विभाग द्वारा मोटर मार्ग की सुध नहीं ली गयी तो ग्रामीणों को पीएमजीएसवाई के खिलाफ सड़कों पर उतरने के लिए बाध्य होना पडे़गा जिसकी पूर्ण जिम्मेदारी शासन – प्रशासन व सम्बंधित विभाग की होगी।

यह भी पढ़ें: बड़ा खतरा: खुद से दूर कर दें मोबाइल वरना बढ़ जाएगी मुसीबत..

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X