हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

क्या BJP में सामने आने लगी अंतर्कलह? पूर्व मुख्यमंत्रियों ने इशारों में सरकार पर उठाए सवाल, विपक्ष हुआ हमलावार..

Has the infighting started coming to the fore in the BJP. Hillvani News

Has the infighting started coming to the fore in the BJP. Hillvani News

उत्तराखंड में भाजपा के अंदर क्या धीरे-धीरे अंतर्कलह सामने आने लगी है? पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के ‘भ्रष्टाचार’ बयान के बाद अब गढ़वाल सांसद और पूर्व सीएम तीरथ सिंह रावत के ‘परसेंटेज’ से उत्तराखंड में सियासी गर्मी बढ़ गई है। हालांकि दोनों मुख्यमंत्रियों ने धामी सरकार की तारीफ भी की है। तीरथ के ‘परसेंटेज’ वाले बयान के बाद कांग्रेस, उत्तराखंड क्रांति दल-उक्रांद, और आम आदमी पार्टी-आप ने उत्तराखंड सरकार पर जमकर हमला बोलना शुरू कर दिया है। धामी सरकार की जीरो टोलरेंस के दावों को हवाई बताते हुए सरकार को कठघरे में खड़ा किया जा रहा है। ‘परसेंटेज’ वाले बयान को मुद्दा बनाकर भाजपा को घेरना शुरू कर दिया है। विपक्ष का कहना है कि तीरथ के बयान ने प्रदेश में क्या चल रहा है, इसकी पोल खोल दी है। इशारों ही इशारों में धामी सराकर पर सवाल उठाए जा रहे हैं, लेकिन खुलकर बोलने से भाजपा के पूर्व मुख्यमंत्री भी बचते हुए नजर आ रहे हैं।

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंड में बड़ा हादसा: स्कूल बस हुई हादसे का शिकार। दो की मौत, 25 बच्चे गंभीर घायल…

मालूम हो कि तीरथ ने मीडिया से बातचीत में कह रहे हैं कि आज बहुत जगह बताते हैं, कहीं भी हो कुछ भी बिना प्रतिशत के नहीं होता। मैं मुख्यमंत्री भी रहा आज भी अहम पद पर हूं। लेकिन मुझे यह कहने में कोई हिचक नहीं है कि जब हम उत्तर प्रदेश से अलग हुए तो कमीशनखोरी छोड़कर जीरो पर जाना चाहिए था। लेकिन दुर्भाग्य क्या हुआ कि जब यूपी में 20 प्रतिशत कमीशन चल रहा था तो जल निगम, जल संस्थान, सड़क और फलाना, फलाना…. में कमीशन दो प्रतिशत, पांच प्रतिशत, 20 प्रतिशत से घटकर जीरो होना चाहिए था। लेकिन हुआ यह कि यूपी में 20 प्रतिशत था तो हम 20 प्रतिशत से शुरू हुए। मैं बार- बार कहता हूं कि हममें से कोई एक व्यक्ति इसके लिए दोषी नहीं है। यह मानसिकता है। यह मेरा प्रदेश है। मेरा परिवार है। यह भाव जब तक नहीं आएगा तब तक ठीक नहीं हो सकता। तीरथ ने कहा कि भ्रष्टाचार के लिए अधिकारी और जनप्रतिनिधि दोनों ही दोषी हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे मामलों में अधिकारियों को तो दंडित किया जा रहा है, लेकिन इसके पीछे शामिल जनप्रतिनिधियों पर कार्रवाई नहीं होती।

यह भी पढ़ेंः क्या विधानसभा से हटाए कर्मियों की नहीं होगी बहाली? अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी ने कहा…

पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद ने भी भ्रष्टाचार पर किया था वार
पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी इससे पहले भ्रष्टाचार पर वार कर चुके हैं। तीन दिन पहले उन्होंने अपने रामनगर दौरे के दौरान कहा कि भ्रष्टाचार प्रदेश को अंदर से खोखला कर रहा है। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार दोनों ही हाथों से होता है। ऐसे में इस पर प्रभावी नियंत्रण की जरूरत है। हालांकि उन्होंने इस दौरान धामी सरकार की सराहना भी की थी। मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप पर उन्होंने कहा था कि आरोप लगाने वाले ब्लैकमेलर और भेड़िये हैं, जो राज्य सरकार को अस्थिर करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि मनी लॉन्ड्रिंग से उनका कोई संबंध नही है। उनके सलाहकार रहे केएस पंवार को लपेटने की कोशिश हो रही है। जबकि उस कंपनी का कोई डायरेक्टर नहीं है। रिजर्व बैंक तीन बार इस मामले में उन्हें क्लीन चिट दे चुका है। राज्य सरकार की दो बार की जांच में भी कोई अनियमितता नहीं पाई गई और उन्हें क्लीन चिट मिल चुकी है।

यह भी पढ़ेंः मानसी नेगी ने किया उत्तराखंड का नाम रौशन, रिकॉर्ड तोड़ हासिल किया स्वर्ण पदक, हिमांशु ने भी जीता स्वर्ण..

विपक्ष ने किया भाजपा सरकार पर वार
कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष करन माहरा ने कहा कि भाजपा सरकार दावा करती है कि भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टॉलरेंस है। हकीकत यह है कि भाजपा का टालरेंस ही जीरो हो चुका है। सोशल मीडिया पर पूर्व सीएम तीरथ रावत के वायरल वीडियो ने इसकी पुष्टि भी कर दी है। माहरा ने कहा कि सरकार ने भ्रष्टाचार की इंतेहा कर दी है। पूर्व सीएम तीरथ का बयान आने के बाद इस सरकार को सत्ता में रहने का कोई नैतिक अधिकार नहीं रह गया है। उधर कांग्रेस की मुख्य प्रवक्ता गरिमा माहरा दसौनी ने कहा कि आखिर पूर्व सीएम किस की ओर इशारा कर रहे हैं? पिछले 6 सालों से प्रदेश पर भाजपा की सरकार काबिज है। पूर्व सीएम तीरथ के बयान को आम आदमी पार्टी ने उत्तराखंड में भ्रष्टाचार की स्वीकारोक्ति करार दिया है। पार्टी ने तीरथ के बयान के आधार पर सरकार से इस्तीफे की मांग की है। पार्टी के प्रदेश संगठन समन्वयक जोत सिंह बिष्ट ने कहा कि भाजपा के सांसद और पूर्व सीएम तीरथ सिंह रावत ने भाजपा की यूपी और उत्तराखंड सरकार के भ्रष्टाचार पर मुहर लगा दी। सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में यूपी से ज्यादा कमीशनखोरी हो रही है। पूर्व मुख्यमंत्री के बयान को उक्रांद ने राज्य की असली हकीकत बताया। केंद्रीय महामंत्री विजय बौड़ाई ने कहा की पार्टी लगातार इस हकीकत को सभी के सामने लाने का प्रयास करती रही है। अब भाजपा के भीतर से ही असल हकीकत सामने आ गई। यहां की सरकारों ने उत्तर प्रदेश की भ्रष्ट संस्कृति को उत्तराखंड में भी ला दिया है। जिसको आज पूर्व मुख्यमंत्री ने सही मानते हुए हमारी बात पर मुहर लगा दी है।

यह भी पढ़ेंः पहाड़ में बर्फबारी तो मैदान में होगी बारिश, पढ़ें मौसम अपडेट..

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X