हिलवाणी को सहयोग करने के लिए क्लिक करें👇

Ankita Murder Case: अब इन्हें सौंपी गई अंकिता भंडारी मर्डर केस की कमान, आदेश जारी..

0
Ankita Murder Case. Hillvani News

Ankita Murder Case. Hillvani News

उत्तराखंड के बहुचर्चित अंकिता भंडारी हत्याकांड मामले में बड़ा अपडेट आ रहा है। बताया जा रहा है कि अंकिता के पिता की मांग पर धामी सरकार ने सरकारी वकील (विशेष लोक अभियोजक) को बदल दिया है। अब पीड़ित परिवार की ओर से अधिवक्ता अवनीश नेगी केस को लड़ेंगे। अंकिता के पिता वीरेंद्र सिंह भंडारी की इच्छा से नए वकील की नियुक्ति की गई है। इस संबंध में शासन ने आदेश जारी किए हैं।

यह भी पढ़ेंः मुख्य सचिव डॉ.एसएस संधु का कार्यकाल बढ़ा, केंद्र ने जारी किया आदेश..

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार अंकिता के पिता वीरेंद्र सिंह भंडारी ने 19 जुलाई 2022 को जिलाधिकारी डॉ. आशीष चौहान को पत्र लिखकर इच्छा जताई थी कि इस मामले में अवनीश नेगी पूर्व डीजीसी क्रिमिनल को विशेष लोक अभियोजन नियुक्त किया जाए। जिलाधिकारी ने इस पत्र को शासन की अनुमति के लिए भेजा था। अब शासन ने अंकिता के पिता की इच्छा के अनुसार ही अवनीश नेगी को सरकारी वकील नियुक्त किया है। अब वे इस मामले की अदालत में पैरवी करेंगे।

यह भी पढ़ेंः दुष्कर्म कानून का दुरुपयोग कर रही कुछ महिलाएं, भेजा जाए जेल- हाईकोर्ट

गौरतलब है कि पूर्व में अंकिता हत्याकांड में सरकार की ओर से जितेंद्र रावत को सरकारी वकील नियुक्त किया गया था, लेकिन अंकिता के परिजनों ने सरकारी वकील पर आरोप लगाया था कि वह अदालत में मामले की कमजोर पैरवी कर रहे हैं। वहीं विपक्ष की ओर से सरकार पर अदालत में केस की कमजोर पैरवी के आरोप लगाए जा रहे थे। जिसके बाद अब सरकार ने इस मामले में सरकारी वकील में बदलाव किया गया है।

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंड क्राइमः सनकी पति ने कर दी चाकू से गोदकर पत्नी की हत्या, फैली सनसनी, आरोपी गिरफ्तार..

ये था मामला
अंकिता भंडारी वनंतारा रिसॉर्ट की रिसेप्शनिस्ट थीं। अंकिता को आखिरी बार पुलकित आर्य के साथ रिसॉर्ट में 18 सितंबर 2022 को देखा गया था, जबकि उनका शव छह दिन बाद 24 सितंबर को चिल्ला पावर हाउस के पास शक्ति नहर से पुलिस ने बरामद किया था। इस दौरान मुख्य आरोपी पुलकित ने खुद को पाक-साफ दिखाने के लिए राजस्व पुलिस में अंकिता की गुमशुदगी की रिपोर्ट भी दर्ज कराई थी। अंकिता के परिवार वालों का आरोप था कि इस मामले में राजस्व पुलिस पहले हाथ पर हाथ धरे बैठी रही और फिर बाद में 22 सितंबर को इस मामले को नियमित पुलिस के हवाले किया गया था। फिलहाल इस मामले में चार्जशीट दाखिल हो चुकी है और केस कोर्ट में है।

यह भी पढ़ेंः DM की पहल का नहीं दिख रहा कोई असर, आसमान छू रहे सब्जी के दाम। भानियावाल क्षेत्र में मची लूट..

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

हिलवाणी में आपका स्वागत है |

X